भारत ने चीन को दिया साफ़ सन्देश, हमारे आंतरिक मामलों से रहें दूर, वरना..?

नई दिल्ली, 15 अक्टूबर: पिछले कई महीनों से भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में जारी तनातनी की के बीच भारतीय विदेश मंत्रालय ने चीनी सरकार को दो टूक संदेश दिया है। चीन की ओर से लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने के फैसले को अवैध बताने पर भारत ने कहा है कि चीन को हिंदुस्तान के आंतरिक मसलों में दखल देने का कोई अधिकार नहीं है।

चीन के बयान के अगले ही दिन दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस की है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा है कि लद्दाख, जम्मू-कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश भारत के अभिन्न अंग हैं। इनके विषय में चीन को बोलने का कोई भी अधिकार नहीं है।

दिल्ली में विदेश मंत्रालय की प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, लद्दाख और जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश भारत के अभिन्न अंग हैं और हमेशा रहेंगे। चीन को हिंदुस्तान के आंतरिक मामलों में बोलने का कोई भी अधिकार नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि अरुणाचल प्रदेश भी भारत का अभिन्न अंग है। इस बात को सीधे शब्दों में चीन को कई बार बताया जा चुका है और ये संदेश चीनी सरकार के उच्चतम स्तरों तक भी पहुंचाया गया है।

पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी विवादित स्थिति के बीच चीनी सरकार ने हाल ही में लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश के रूप में हुए पुनर्गठन को गलत बताया था।

loading...