हाथरस: IAS प्रेम प्रकाश ने दिखाई समझदारी, जरा सी लापरवाही करते तो हो सकते थे कोरोना संक्रमित

तस्वीर साभार - आज तक

हाथरस केस के बहाने राजनैतिक पार्टियाँ जहाँ अपनी खोई हुई जमीन पाने की तलाश में हैं तो वहीँ मीडिया भी अपनी टीआरपी के चक्कर में हाथरस में झंडे गाड़कर बैठ गया, कुछ न्यूज़ चैनलों के पत्रकार टीआरपी के चक्कर में इस कदर पागल हो गए हैं कि कोरोना का खौफ भी भूल गए हैं, न खुद सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं न किसी को करने दे रहे हैं। कुछ पत्रकारों ने आईएएस अधिकारी से भी बदसलूकी करने से गुरेज नहीं की, लेकिन अधिकारियों ने धैर्य से काम लिया, समझदारी दिखाई।

हाथरस मामलें में एसडीएम प्रेम प्रकाश मीणा काफी सुर्ख़ियों में हैं, आरोप है कि उन्होनें आजतक की पत्रकार चित्रा त्रिपाठी के साथ ऑफ़ कैमरे पर बदतमीजी से बात की थी, इसके बाद चित्रा त्रिपाठी ऑन कैमरे के साथ प्रेम प्रकाश मीणा के पास पहुंची और तू-तड़ाक करके बात कर रही थी, लेकिन प्रेम प्रकाश मीणा मॉस्क लगाए शांति से खड़े रहे. कुछ लोगों ने कहा कि आईएएस के पास पत्रकार के सवाल का जवाब नहीं है. हालाँकि उस समय प्रेम प्रकाश मीणा ने मुंह न खोलकर बहुत बड़ी समझदारी दिखाई, वरना कोरोना की चपेट में आ सकते थे।

बात दरअसल यह है कि आईएएस प्रेम प्रकाश मीणा के बगल माइक लिए चिल्लाती पत्रकार चित्रा त्रिपाठी कोरोना पॉजिटिव थी और उन्होनें मास्क भी नहीं लगाया था. ऐसे में अगर प्रेम प्रकाश मॉस्क निकालकर उनसे बातचीत करते/सवालों का जवाब देते तो सम्भवतः कोरोना संक्रमित हो सकते थे, लेकिन उस समय आईएएस ने जो बुद्धिमता का परिचय दिया उसकी जमकर तारीफ हो रही है।

वीडियो में देखा जा सकता है कि कोरोना संक्रमित पत्रकार चित्रा त्रिपाठी ने न मॉस्क लगाया है और न ही सोशल डिस्टन्सिंग का पालन कर रही हैं ऊपर से आईएएस अधिकारी के साथ गलत लहजे में बात कर रही हैं. आपको बता दें कि कोरोना पॉजिटिव होने जी जानकारी खुद चित्रा त्रिपाठी ने ट्वीट कर के दी और आईएएस प्रेम प्रकाश मीणा ने उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना की.