परमबीर से लड़ेंगे और उनका पर्दाफाश करेंगे, रिपब्लिक टीवी के अर्नब गोस्वामी ने किया ऐलान

मुंबई पुलिस द्वारा रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के 1000 मीडियाकर्मियों पर एफआईआर दर्ज होने के बाद चैनल के सम्पादक अर्नब गोस्वामी ने कहा कि हम परमबीर से डरने वाले नहीं हैं, लड़ेंगे और उनका पर्दाफाश करेंगे।

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी ने कहा, पुलिस कमिश्नर ने रिपब्लिक के खिलाफ गलत आरोप लगाए हैं, इसके लिए उन्हें देश माफ नहीं करेगा। उन्होंने रिपब्लिक पर ब्रिटिश शासन काल जैसी धाराओं का उपयोग किया है।

रिपब्लिक मीडिया के पत्रकारों और कर्मियों के समर्थन में एनएम जोशी मार्ग पुलिस स्टेशन पहुंचे अर्नब गोस्वामी ने कहा ‘1000 पत्रकारों और कर्मियों के खिलाफ मुंबई पुलिस के तानाशाही पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के इशारे पर एफआईआर दर्ज की गई है। परमबीर सिंह ने ब्रिटिश काल की 100 वर्षों पुरानी धारा को उठाया है। हम परमबीर सिंह का और पर्दाफाश करेंगे। वह झूठे गवाह ला रहे हैं। भारतीय संविधान में जो भी पुलिस कर्मी झूठे गवाह लाता है वह जेल जाता है झूठ ज्यादा दिन तक नहीं चलता है।’

अर्नब गोस्वामी ने कहा, यह भारत के लोगों के लिए बिल्कुल स्पष्ट है कि मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह का रिपब्लिक मीडिया के खिलाफ झूठ पकड़ा गया है और जारी किए गए टेप से पता चलता है कि उन्होंने नकली गवाह बनाए हैं। अर्नब ने कहा, मैं कहना चाहता हूं कि भारत के लोग यह जान लें कि परमबीर सिंह द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला क्लॉज ब्रिटिश राज के 1922 में प्रयोग किया जाने वाला क्लॉज है यानी की 98 साल पुराना। यह एक ऐसा क्लॉज है जिसका उपयोग भारतीय संविधान में या मुंबई पुलिस द्वारा पिछले 34 वर्षों से या उससे अधिक समय से नहीं किया गया है। परमबीर सिंह पुलिस आतंकवाद को अंजाम दे रहे हैं और एक आजाद देश में आपातकाल की कोशिश कर रहे हैं।