हाथरस केस: घटनास्थल पर पहुंची CBI टीम, पीड़िता के माँ-भाई के बयान में बड़े अंतर, सस्पेंस बढ़ा

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की सिफारिश के बाद अब सीबीआई हाथरस केस की जांच शुरू कर चुकी है, सीबीआई की टीम मंगलवार ( 13 अक्टूबर, 2020 ) को चंदपा थाना क्षेत्र के बुलगढ़ी गाँव पहुंची, इसके बाद घटनास्थल पर पहुंची, सीबीआई के साथ मृतक पीड़िता के भाई और माँ को भी घटनास्थल पर ले जाया गया. काफी देर तक घटनास्थल का मुवायना करने के बाद सीबीआई की टीम उस जगह रवाना हो गई जहाँ रात में 3 बजे पीड़िता को जलाया गया था.

दोनों जगहों का मुवायना करने के बाद सीबीआई की टीम पीड़िता के घर पहुंची और मृतक पीड़िता के माँ और भाई से पूछताछ की, जैसे – घटना वाले दिन किसने क्या देखा, कब क्या हुआ. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूछताछ के दौरान पीड़िता की माँ और भाई के बयानों में बड़ा अंतर था, माँ अपनी बेटी, भाई अपनी बहन की मौत का कारण साफ़-साफ़ नहीं बता पा रहे थे. जिसकी वजह से अब गुत्थी और उलझ गई है।

सीबीआई के साथ फरेंसिक टीम भी घटनास्थल पर पहुँची थी जो सबूत इकट्ठा कर रही थी, सीबीआई की टीम से आने से पहले गांव में सुरक्षा कड़ी कर दी गई थी। गांव के अंदर और घटनास्थल के पास भारी संख्या में पुलिस फोर्स है। सीबीआई ने इस केस और घटना से जुड़े सभी अहम कागजात और केस डायरी को भी खंगाला है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सीबीआई की टीम कोर्ट से चारों आरोपियों की कस्टडी की मांग करेगी और उनसे पूछताछ करेगी। सीबीआई आरोपियों के साथ ही पीड़िता के परिवार से भी पूछताछ कर सकती है। सीबीआई के ऊपर दूध का दूध पानी का पानी करने की जिम्मेदारी है ताकि निर्दोष फंसे नहीं और दोषी किसी भी कीमत पर बचें नहीं।

गौरतलब है कि 14 सितंबर को हाथरस में चंदपा थानाक्षेत्र के बुलगढ़ी गाँव में एक 19 वर्षीय दलित लड़की के साथ मारपीट हुई, शुरुवाती शिकायत में पीड़िता ने मारपीट का केस दर्ज कराया था, घटना के आठ दिन बाद कुछ नेताओं के दखल देने के बाद मारपीट से मामला गैंगरेप में बदल गया, पीड़िता के बयान के बाद पुलिस ने दुष्कर्म का केस दर्ज करके 4 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।