हाथरस केस: घटना के समय गांव में नहीं था रामू फिर भी दलित पीड़िता ने लगाया गैंगरेप का आरोप

हाथरस केस में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है, आरोपी राजकुमार उर्फ़ रामू जो इस वक्त गैंगरेप के आरोप में जेल में है वो घटना के वक्त और घटना के दिन गाँव में ही था ही नहीं, इसका खुलासा उस डेरी प्लांट के मालिक ने किया है जहाँ पर रामू काम करता था, इंडिया टुडे से बातचीत के दौरान डेरी मालिक ने चौंकाने वाला खुलासा किया।

डेरी प्लांट के मालिक ने बताया कि जिस दिन घटना हुई यानि 14 सितंबर को उस दिन रामू मेरे यहाँ काम कर रहा था, वो घटना के वक्त वहां नहीं बल्कि डेरी पर मौजूद था, डेरी मालिक ने कहा कि हमारे यहाँ लगभग 25 लोग काम करते हैं, सभी 25 लोगों ने देखा की घटना के समय रामू डेरी पर ही था। उन्होंने कहा कि रामू कानों से कुछ ऊँचा सुनता है, बहुत सीधा व्यक्ति है।

आपको बता दें कि हाथरस केस में रामू नामजद अभियुक्त है, दलित परिवार ने रामू के ऊपर गैंगरेप का आरोप लगाया है, पुलिस ने दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज करके रामू को जेल में डाल दिया है, लेकिन इस खुलासे के बाद कहा जा रहा है कि मामलें की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए ताकि आरोपी बचना नहीं चाहिए और निर्दोष फंसना नहीं चाहिए।

आपको बता दें कि हाथरस केस की जांच करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है, जल्द ही गृह मंत्रालय की मंजूरी मिलने के बाद सीबीआई अपनी जांच शुरू कर देगी।