हाथरस केस में बड़ा खुलासा: 8 दिन बाद कांग्रेस नेता ने मारपीट का केस, गैंगरेप में बदलवा दिया!

हाथरस केस में रोजाना नए खुलासे हो रहे हैं, इस केस के जरिये अपनी खोई हुई जमीन पाने की कोशिश कर रही है कांग्रेस पार्टी रोज बेनकाब हो रही है, इस मामले में अब बेहद चौंकाने वाला खुलासा हुआ है, बताया जा रहा है कि कांग्रेस के दलित नेता व दर्जा प्राप्त पूर्व राज्य मंत्री ने मारपीट का केस गैंगरेप में तब्दील करवा दिया।

मारपीट की घटना 8 दिनों बाद कैसे सामूहिक दुष्कर्म में तब्दील हो जाती है, पीड़़िता के 3 अलग-अलग बयानों पर भी सवाल उठ रहे हैं। घटना के दिन 14 सिंतबर को पीड़िता ने कहा कि गांव के ही संदीप ने उसके साथ मारपीट की, पीडि़ता की मां ने भी कहा कि गला दबाने की कोशिश की गई. भाई ने घटना के ही दिन पुलिस को तहरीर दी कि बहन से मारपीट हुई, मुकदमा भी मारपीट औऱ एससी-एसटी एक्ट में लिखा गया।

इसके अलावा वारदात के तुरंत बाद का आप वीडियो देख सकते हैं जिसमें पीड़िता की मां कहती है कि कुछ घटना नहीं हुई है. पुरानी रंजिश है. मैं घास काट रही थी, पीछे से गांव का ही रहने वाला संदीप आया और बेटी को बाजरे के खेत में ले गया. संदीप ने कुछ नहीं किया केवल रस्सी से बेटी की गर्दन काटी है।

वारदात के तुरंत बाद का पीड़िता की मां का अस्पताल से भी एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वो बेटी के साथ मारपीट की बात कह रही हैं.यहां तक तो मामला मारपीट का ही था लेकिन ठीक 8 दिन बाद ये गैंगरेप बन गया. स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस के दलित नेता औऱ पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री श्योराज जीवन वाल्मीकि अस्पताल में परिवार से मिलने जाते हैं, औऱ परिवार को तमाम तरह के लालच देते हैं, जिसके चलते पीड़िता उसी दिन मामले में छेड़छाड़ की बात कहने लगती है।

कांग्रेस नेता श्योराज जीवन अलीगढ़ से पीड़िता के घर जाते हैं और परिवार से मिलते हैं, इसके बाद से ही कहानी बदलने लगती है, औऱ 22 तारीख को पीड़िता अपने साथ गैंगरेप होने का बयान देती है, संदीप के अलावा तीन औऱ लोगों का नाम लेती है. इसके बाद श्योराज मुद्दे को हाईलाइट करने के लिए खूब धरना-प्रदर्शन करते हैं, इसके बाद राहुल-प्रियंका ने इस मुद्दे को लपक लिया और अब कांग्रेस इसे भुनाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रही है।