कांग्रेस सरकार बनते ही कश्मीर में फिर लागू करेंगे धारा 370, पी चिदंबरम ने किया ऐलान

केंद्र की मोदी सरकार ने ऐतिहासिक फैसला लेते हुए एक साल पहले ( 5 अगस्त, 2019 ) को कश्मीर से धारा 370 हटा दिया, अनुच्छेद-370 के तहत जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा मिला हुआ था, जो धारा 370 के साथ समाप्त हो गया। जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद जम्मू कश्मीर के सभी राजनितिक दलों में खलबली मच गई तो वहीँ कांग्रेस ने इसे असंवैधानिक करार दिया और कहा कि मोदी सरकार ने कश्मीर से धारा 370 हटाकर लोकतंत्र का मर्डर किया है.

कश्मीर के सभी राजनितिक दल एकजुट हो गए हैं और कश्मीर में धारा 370 की बहाली की मांग कर रहे हैं। कांग्रेस पार्टी इन सभी दलों का समर्थन कर रही है, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने धारा 370 की बहाली के लिए एकजुट हुई 6 राजनैतिक पार्टियों को सलाम ठोंका है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने अपने ट्वीट में लिखा, जम्मू-कश्मीर की मुख्यधारा की क्षेत्रीय पार्टियों का जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के लोगों के अधिकारों को बहाल करने के लिए संवैधानिक लड़ाई लड़ने के लिए एक साथ आना एक ऐसा विकास है जिसका भारत के सभी लोगों द्वारा स्वागत किया जाना चाहिए। कांग्रेस जम्मू-कश्मीर के लोगों की स्थिति और अधिकारों की बहाली के लिए भी दृढ़ है। मोदी सरकार द्वारा 5 अगस्त, 2019 को लिए गए मनमाने और असंवैधानिक फैसलों को रद्द किया जाना चाहिए। चिदंबरम का कहना है कि कांग्रेस जम्मू-कश्मीर के लोगों की स्थिति और अधिकारों की बहाली के लिए भी दृढ़ है। इसका मतलब यह कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनते ही धारा 370 फिर लागू होगी।

बता दें कि धारा 370 हटने के बाद नजरबंद किये गए अब्दुला और महबूबा अब रिहा कर दिए गए हैं, रिहा होते ही अब सब मिलकर धारा 370 को करने की प्लानिंग कर रहे हैं, फारूक अब्दुल्ला के घर हाल ही में सभी कश्मीरी राजनैतिक दलों की बैठक हुई, इस बैठक में निर्णय लिया गया है कि किसी भी हालत में जम्मू कश्मीर में धारा 370 बहाल करवाकर रहेंगे।

loading...