फ़्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ किया था विरोध प्रदर्शन, कांग्रेस MLA आरिफ मसूद समेत 2000 पर केस दर्ज

फ़्रांस में एक हफ्ते के भीतर अबतक 4 फ्रेंच नागरिकों की ह्त्या की जा चुकी है, एक ने पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाने पर शिक्षक का सर कलम कर दिया तो एक ने अल्लाह-हु अकबर चिल्लाते हुए चर्च में घुसकर एक महिला का गला रेता और दो लोगों की चाकू से मारकर ह्त्या कर दी, इन दोनों घटनाओं को फ़्रांस के राष्ट्रपति इम्मैन्युअल मैक्रों ने इस्लामिक आतंकवाद करार दिया है. साथ ही उन्होंने इस्लामिक आतंकवाद के विरुद्ध जंग भी छेड़ दी है, भारत ने भी फ़्रांस का समर्थन करने का ऐलान किया है।

फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मैन्युअल मैक्रों के बयान के बाद मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के इकबाल मैदान में कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में हजारों की संख्या में मुस्लिम लोग एकत्र हुए और फ्रांस के राष्ट्रपति का कड़ा विरोध किया. इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का जमकर उल्लंघन किया गया. पुलिस ने विधायक आरिफ मसूद समेत 2 हजार अज्ञात लोगों पर कोरोना गाइडलाइन का पालन ना करने का लेकर केस दर्ज कर लिया है. आरिफ मसूद समेत 2 हजार लोगों पर थाना तलैया में धारा 188 के तहत मामला दर्ज हुआ है।

कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने अपने ट्विटर हैंडल से विरोध प्रदर्शन की कुछ तस्वीरों को शेयर करते हुए लिखा, फ्रांस के राष्ट्रपति द्वारा पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के बारे में अपशब्द कहे जाने को लेकर मेरे द्वारा इक़बाल मैदान में कार्यक्रम किया गया जिसमें हज़ारों की संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने अपना विरोध दर्ज कराया!

आपको बता दें कि फ़्रांस के खिलाफ पाकिस्तान, तुर्की और ईरान समेत कई इस्लामिक मुल्कों में विरोध प्रदर्शन हो रहा है लेकिन फ़्रांस ने भी साफ़ कर दिया है कि वो इस्लामिक आतंकी हमले से डरेगा नहीं बल्कि दटककर मुकाबला और इस्लामिक आतंकवाद को जड़ से मिटा देगा।

आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में फ़्रांस का साथ भारत भी देगा, पीएम मोदी ने ट्वीट करके इसका आधिकरिक ऐलान किया, मालूम हो की भारत भी इस्लामिक आतंक का शिकार है।