बॉम्बे हाईकोर्ट ने मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर को लगाई फटकार, कहा- अर्नब गोस्वामी आरोपित नहीं

प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके टीआरपी घोटाले में रिपब्लिक टीवी को घसीटने वाले मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को बॉम्बे हाईकोर्ट ने फटकार लगाई है, साथ ही यह भी कहा कि टीआरपी मामलें में रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी आरोपित नहीं हैं। अदालत ने टीआरपी घोटाला मामले में रिपब्लिक टीवी के खिलाफ दर्ज एफआईआर को रद्द करने की याचिका पर सुनवाई करते हुए परमबीर को फटकार लगाई।

कोर्ट में मुंबई पुलिस ने माना है कि टीआरपी मामलें में रिपब्लिक आरोपी नहीं है, इस तरह से परमबीर सिंह अकेले पड़ गए हैं, कोई उनका साथ देने को तैयार नहीं है, महाराष्ट्र राज्य और मुंबई पुलिस की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि रिपब्लिक आरोपित नहीं है।

रिपब्लिक टीवी की ओर से कोर्ट में पेश हुए वरिष्ठ वकील हरीश सॉल्वे ने कहा कि चूँकि अर्नब मामले में आरोपित नहीं हैं, इसलिए उनकी गिरफ्तारी का सवाल ही नहीं उठता। इसलिए, मीडिया हाउस प्रमुख के लिए सुरक्षा के अंतरिम आदेश को पारित करने की कोई आवश्यकता नहीं है। साल्वे से कोर्ट ने कहा, जहाँ तक अंतरिम संरक्षण का सवाल है, पीठ का मानना है कि यह आवश्यक नहीं है, क्योंकि एफआईआर में रिपब्लिक का कोई उल्लेख नहीं है और तात्कालिकता के मामले में, हम आपको यहाँ तत्काल स्थानांतरित करने की स्वतंत्रता प्रदान करेंगे। अब इस मामलें में की अगली सुनवाई 5 नवंबर 2020 को होगी।

जस्टिस एसएस शिंदे की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, परमबीर सिंह के मीडिया इंटरव्यू देने पर हैरानी जताई, उन्होनें कहा कि अधिकारियों से भड़काऊ चीजें बोलने की अपेक्षा नहीं रखी जाती है।