बिहार चुनाव: कन्हैया कुमार से प्रचार करवाना चाहता है कांग्रेस-महागठबंधन, RJD उम्मीदवारों ने नकारा

2019 लोकसभा में बेगूसराय से करारी शिकस्त खाने वाले कन्हैया कुमार को इस बार बिहार विधानसभा चुनाव में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इण्डिया ( सीपीआई ) ने टिकट नहीं दिया, कन्हैया कुमार काफी समय से मेहनत कर रहे थे, जनता की नाराजगी का भी सामना किये, यहाँ तक की जूते-चप्पल, अंडे, मोबिल और पत्थर तक खाये लेकिन फिर भी सीपीआई का दिल नहीं पसीजा और उन्हें टिकट नहीं दिया।

बिहार विधानसभा चुनाव प्रचार अपने चरम पर है, चूँकि कन्हैया कुमार मुस्लिमों का खुलकर समर्थन करते हैं ऐसे में महागठबंधन कन्हैया कुमार से मुस्लिम बाहुल्य कुछ सीटों पर चुनाव प्रचार करवाना चाहता था लेकिन राजद के उम्मीदवारों ने प्रचार करवाने से साफ़ इनकार कर दिया है. राजद के कई उम्मीदवारों ने स्पष्ट कर दिया है कि वे नहीं चाहते कि सीपीआई नेता उनके लिए चुनाव प्रचार करें। अगर करते भी हैं तो उनका ‘आज़ादी’ वाला स्लोगन किसी भी स्पीच में नहीं रहेगा। मालूम है कि कन्हैया कुमार डफली बजाकर आजादी-आजादी का नारा लगाने में माहिर हैं।

जेएनयू में देशद्रोही नारेबाजी करके सुर्ख़ियों में आये कन्हैया कुमार ने पिछले साल सीपीआई ज्वाइन कर ली, जोकि एक वामपंथी राजनैतिक पार्टी है, सीपीआई बिहार विधानसभा चुनाव आरजेडी-कांग्रेस के साथ मिलकर लड़ रही है, सीपीआई ने लोकसभा चुनाव में बेगूसराय से लोकसभा सीट से कन्हैया कुमार को टिकट दिया था लेकिन वो बुरी तरह चुनाव हार गए थे।