अगले 12 हफ्ते तक न्यूज़ चैनलों की TRP नहीं जारी करेगा BARC, जानिये इसका साइड इफेक्ट

मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की प्रेस-कॉन्फ्रेंस के बाद टीआरपी को लेकर मचे घमासान के बीच ब्रॉडकास्‍ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने बड़ा फैसला किया है। टीवी रेटिंग्‍स जारी करने वाली यह संस्‍था फिलहाल न्‍यूज चैनलों की साप्‍ताहिक रेटिंग्‍स जारी नहीं करेगी। BARC ने 12 हफ्ते के लिए रेटिंग्‍स न जारी करने का फैसला किया है।

नैशनल ब्रॉडकास्‍टर्स एसोसिएशन (NBA) ने BARC के इस कदम का स्‍वागत किया है। हालांकि NBA अध्‍यक्ष रजत शर्मा ने यह भी कहा कि BARC को महत्‍वपूर्ण फैसले करते वक्‍त उससे सलाह लेनी चाहिए।

BARC ने प्रस्‍ताव दिया है कि उसकी तकनीकी समिति टीआरपी का डेटा मापने के वर्तमान सिस्‍टम का रिव्‍यू करेगी। उसे और बेहतर किया जाएगा। यह कवायद हिंदी, अंग्रेजी और बिजनस समाचार चैनलों पर तत्‍काल रूप से लागू की जाएगी। इसमें 8 से 12 हफ्तों का समय लग सकता है।

ब्रॉडकास्‍ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) के फैसले का साइड इफेक्ट यह होगा कि पत्रकारों के बीच बेहद तेजी से बढ़ता आपसी सिर फुटव्वल का खतरा घट जाएगा, क्योंकि इन दिनों पत्रकारों के बीच जमकर बवाल हो रहा था, आप पत्रकार टीआरपी के लिए पत्रकारिता नहीं करेंगें, क्योंकि 12 हफ्ते तक टीआरपी आनी ही नहीं नहीं।