रिपब्लिक का बड़ा खुलासा: BARC ने ठोंका इंडिया टुडे पर 5 लाख का जुर्माना, TRP में गड़बड़ी का आरोप

जब से मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह भड़ाना ने प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके टीआरपी में छेड़छाड़ का खुलासा किया है तबसे मीडिया जगत में हड़कंप मच गया है. पुलिस कमिश्नर ने दावा किया कि टीआरपी के हेरफेर में रिपब्लिक समेत महाराष्ट्र के दो रीजनल चैनल शामिल हैं, हालाँकि एफआईआर में रिपब्लिक का नाम नहीं बल्कि इंडिया टुडे का नाम दर्ज है, वो भी एक नहीं 6 बार. इन सबके के बीच टीआरपी को लेकर रिपब्लिक भारत ने बड़ा खुलासा किया है.

रिपब्लिक टीवी के मुताबिक, आजतक समूह का अंग्रेजी न्यूज़ चैनल इंडिया टुडे टीआरपी घोटालों का बादशाह है, देश में टेलिविजन दर्शकों की संख्या मापने वाली संस्था ‘ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल’ (BARC) ने टीआरपी में छेड़छाड़ को लेकर इंडिया टुडे पर 5 लाख का जुर्माना लगा चुकी है, रिपब्लिक ने एक रिपोर्ट के जरिये ये दावा किया है, हालाँकि रिपब्लिक ने अभी वो रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की है।

बता दें कि मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने गुरुवार को प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके दावा किया था कि रिपब्लिक टीवी ने पैसे देकर टीआरपी खरीदी है, पुलिस कमिश्नर ने सीधे तौर पर रिपब्लिक टीवी को आरोपी मानते हुए कहा कि चैनल ने 500-500 रूपये देकर टीआरपी बढ़ाई।

परमवीर सिंह ने कहा कि BARC ने टीआरपी हेरफेर की हमें शिकायत दी उसके बाद हमनें इन्वेस्टिगेशन की, जिसमें पता चला है कि रिपब्लिक टीवी समेत दो मराठी चैनलों ने पैसे देकर टीआरपी बढ़वाई है, हालाँकि BARC ने जो शिकायत दी है उसमें रिपब्लिक नहीं बल्कि इंडिया टुडे का नाम लिखा है। लेकिन साजिश के तहत परमबीर सिंह ने रिपब्लिक का नाम लिया लेकिन इंडिया टुडे का नाम नहीं लिया। इंडिया टुडे आजतक ग्रुप का अंग्रेजी न्यूज़ चैनल है।

मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह के आरोपों के बाद रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी ने बयान जारी किया है, अर्नब का कहना है कि मुंबई पुलिस कमिश्नर की तरफ से लगाए गए सभी आरोप सरासर झूठे हैं. इसके अलावा अर्नब ने परमवीर सिंह के खिलाफ मानहानि का मुकदमा करने की बात कही है।