पंजाब में 6 साल की दलित बच्ची का गेंगरेप और मर्डर, लोग बोले- पंजाब कब जाएंगे राहुल-प्रियंका

कॉंग्रेस शासित पंजाब में होशियारपुर के टांडा में एक 6 वर्षीय दलित मासूम बच्ची के साथ कुछ दरिंदों ने गैंगरेप किया और इसके बाद बेरहमी से ह्त्या कर दी, इस मामलें में मेनस्ट्रीम मीडिया से लेकर झंडाबरदार नेता सब खामोश हैं, खासकर राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी की चुप्पी पर सवाल उठ रहे हैं. इस मामलें पर बोलना तो दूर की बात भाई-बहन ने अभी तक कोई ट्वीट नहीं किया।

मिली जानकारी के मुताबिक, होशियारपुर के टांडा में एक 6 साल की दलित बच्ची को मौत के घाट उतार दिया गया, दलित बच्ची के साथ 2 दरिंदो ने गैंगरेप किया, फिर उसे जिन्दा जलाकर मौत के घाट उतार दिया। बिहारी मजदुर अपने परिवार के साथ रहता था, दलित था और मजदूरी का काम करता था, दलित परिवार में 6 साल की बच्ची भी थी उसके साथ दरिंदों ने गैंगरेप किया और फिर जला दिया। पुलिस ने इस मामलें में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया ही.

गौरतलब है कि अभी हाल ही में उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक कथित गैंगरेप की घटना को लेकर विपक्षी पार्टियों ने जमकर हो-हल्ला किया था, पीड़िता के परिवार से मिलने राहुल-प्रियंका हाथरस भी पहुंचे थे. लोगों का कहना है कि प्रियंका वाड्रा और राहुल गाँधी जिस तरह हाथरस जाकर पीड़िता के लिए न्याय की मांग की थी, इसी तरह इन्हें पंजाब में पीड़िता के घर जाना चाहिए और न्याय के लिए आवाज उठायें।

इस घटना पर तमाम दलित चिन्तक और भीम आर्मी जैसे संगठन भी गायब है, इससे साफ़ हो जाता है की इन लोगो को दलितों से कुछ लेना देना नहीं, इनका धंधा राजनीती के जरिये पैसे बनाने का है इसी कारण जब घटना यूपी में हो तब ये शोर मचाते है पर जब घटना राजस्थान या पंजाब जैसे कांग्रेस शासित राज्यों में हो तब ये गायब हो जाते है।

भाजपा के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्वीट कर कहा कि पंजाब के टांडा गाँव में एक बिहारी प्रवासी दलित परिवार की ६ साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म होता है, फिर उसे जला कर मार दिया जाता है। पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय सांपला जी पीड़ित परिवार से मिलते हैं। लेकिन दलितों और पिछड़ों के नाम पर राजनीति करने वाले राहुल गांधी और तेजस्वी चुप हैं।

loading...