सुशांत केस: 65 दिनों तक मुंबई पुलिस नहीं ढूढ़ पाई ये एंगल, बंद हो गई HM अनिल देशमुख की बोलती

मुंबई, 5 सितंबर: सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के मौत की जांच सीबीआई कर रही है, सीबीआई ने जैसी ही जांच शुरू की बड़े-बड़े खुलासे होने लगे, इससे पहले 65 दिनों तक सुशांत केस की जांच मुंबई पुलिस ने की लेकिन एक भी खुलासे नहीं हुए, इसके बावजूद महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख मुंबई पुलिस का गुणगान करते रहे, लेकिन अब अनिल देशमुख की भी बोलती बंद हो गई है।

दरअसल सीबीआई ने जैसे ही सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच शुरू की वैसे ही ड्रग्स एंगल सामने आ गया, इसके बाद नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ( एनसीबी ) एक्शन में आ गई, ड्रग्स कनेक्शन सामने आने के बाद एनसीबी ने पहले ड्रग्स पेडलर अब्दुल वासित परिहार और जैद को गिरफ्तार किया, इसके बाद रिया चक्रवर्ती के भाई शौवित और सुशांत के हाउस मैनेजर समुएल मिरांडा को गिरफ्तार किया।

एनसीबी के सामने पूछताछ के दौरान शौवित चक्रवर्ती ने कबूल किया कि वो अपनी बहन रिया चक्रवर्ती के कहने पर ड्रग्स मंगवाता था और लगातार ड्रग्स पेडलर के सम्पर्क में था।

सुशांत मामलें में ड्रग्स कनेक्शन सामने आने के बाद अब सवाल मुंबई पुलिस पर उठता है कि आखिर पुलिस 65 दिनों में ड्रग्स एंगल क्यों नहीं ढूढ़ पाई। क्या मुंबई पुलिस पर किसी का दबाव है, अगर सीबीआई जांच न होती तो देश इन ड्रग्स पेडलर को जान ही न पाता।

पैंसठ दिन तक मुंबई की पुलिस सुशांत सिंह राजपूत मामले की जाँच पर बैठी रही, ड्रग्स का घालमेल नहीं सूंघ पाई? या किसी दबाव में आँख-नाक-कान बंद कर लिए थे? इस सम्बन्ध में जब मीडिया ने महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख से सवाल पूछा तो उनकी बोलती बंद हो गई, एक भी जवाब नहीं दिया।