प्रशांत भूषण ने उठाये उमर खालिद की गिरफ़्तारी पर सवाल, कहा- निर्दोष व्यक्ति को फंसाने की साजिश

नई दिल्ली, 14 सितंबर: दिल्ली की जवाहर लाल यूनिवर्सिटी ( जेएनयू ) के पूर्व छात्र और टुकड़े-टुकड़े गैंग के सरगना उमर खालिद को दिल्ली पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार कर लिया है, गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत उमर खालिद की गिरफ़्तारी हुई है।

उमर खालिद की गिरफ़्तारी पर सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण ने सवाल उठाया है, उन्होंने ट्वीट करके कहा कि यह पुलिस की ओर से जांच की आड़ में शांतिपूर्ण कार्यकर्ताओं को फंसाने की साजिश है।

प्रशांत भूषण ने सोमवार को एक ट्वीट में लिखा- ‘सीताराम येचुरी, योगेंद्र यादव, जयति घोष और अपूर्वानंद का नाम लेने के बाद अब उमर खालिद की गिरफ्तारी से दिल्ली दंगे की जांच कर रही दिल्ली पुलिस के दुर्भावनापूर्ण नजरिए को समझने में कोई संदेह नहीं बचा है। यह पुलिस की ओर से जांच की आड़ में शांतिपूर्ण कार्यकर्ताओं को फंसाने की साजिश है।

आपको बता दें कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल उमर खालिद से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे से पहले दिए गए उसके भाषण को लेकर भी सवाल पूछ चुकी है। इन सब सवालों के संतोषजनक जवाब न मिलने के बाद ही पुलिस ने उमर खालिद को गिरफ्तार किया।

गौरतलब है कि संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोधी और समर्थकों के बीच हिंसा के बाद 24 फरवरी को उत्तर पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक दंगे भड़क गए थे जिसमें कम से कम 53 लोगों की मौत हुई थी जबकि 200 के करीब घायल हुए थे। उमर खालिद जैसे लोगों ने जाबुझकर प्लानिंग के तहत हिंसा भड़कायी थी. ताकि सरकार डर जाए और CAA वापस ले ले.

loading...