मठ में की तोड़फोड़, भगवद्गीता में लगाई आग, पुलिस ने आरोपी रफीकुल अली को किया गिरफ्तार

असम पुलिस ने रफीकुल अली नाम के एक आरोपी को गिरफ्तार किया है, इसपर एक वैष्णव मठ में तोड़फोड़ करने और धार्मिक स्थल को अपवित्र करने का आरोप है, ये पूरा मामला असम के बारपेटा जिले के गनक कुची गाँव का है जबकि आरोपी रफीकुल बरपेटा कस्बे के भैला क्षेत्र के शांतिपुर का रहने वाला है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबक, रफीकुल अली ने गुरु आसान और श्री राम अता भिठी के मठ में रखी हिंदू पवित्र पुस्तक भगवद गीता को आग में झोंक दिया था। आरोपित ने मठ के प्रार्थना कक्ष में तोड़फोड़ भी की थी। इस घटना के बाद इलाके में तनाव का माहौल पैदा हो गया। जिस वक्त घटना को अंजाम दिया गया, कोई भी मठ के भीतर मौजूद नहीं था।

गुरुवार को लगभग 2 बजे के आसपास रफीकुल ने मठ में प्रवेश किया। उसने पहले तोड़फोड़ की फिर गुरु आसन और अन्य वस्तुओं को मठ से बाहर लाकर आग लगा दी। इतना ही नहीं उसने मठ में रखे प्रसाद को भी फेंक दिया। मठ से आग की लपटें और धुँए को उठता देख स्थानीय लोगों ने मौके पर पहुँचकर आरोपित को रंगेहाथ दबोच लिया। फिर उसे पुलिस को सौंप दिया गया। बारपेटा के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने मठ का दौरा किया। गनक कूची सत्र समिति ने मामले को लेकर पुलिस में औपचारिक शिकायत दर्ज कराई है।