कांग्रेस ने किया उदित राज के साथ अन्याय, ट्विटर पर उठी न्याय के लिए आवाज, ट्रेंड हुआ #JusticeForUditRaj

कांग्रेस का एक बार फिर दलित विरोधी चेहरा सामने आया है, पार्टी के दिग्गज दलित नेता उदित राज की एक बार फिर से अनदेखी की गई है, ऑल इंडिया कॉंग्रेस कमिटी ( AICC ) की नई सूचि आ गई है लेकिन उदित राज का नाम उसमें न होने से उनके समर्थक काफी नाराज हैं, दिलचस्प बात यह कि AICC में उदित राज को जगह न मिलने पर उनके कांग्रेसी समर्थक से ज्यादा भाजपा समर्थक दुःखी हैं।

ट्विटर पर इस समय उदित राज को न्याय दिलाने के लिए #JusticeForUditRaj ट्रेंड कर रहा है, इस ट्रेंड के माध्यम से लोग उदित राज को न्याय दिलाने के लिए सोनिया गांधी से गुहार लगा रहे हैं. लोगों का कहना है कि उदित राज काफी होनहार नेता हैं, उनको पार्टी में बड़ा पद दिया जाना चाहिए।

इससे पहले खबर आई थी कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए उदित राज के नाम पर पार्टी में चर्चा हो रही है, इस खबर के सामने आने के बाद उदित राज के समर्थकों में ख़ुशी की लहर थी, वो पार्टी में संगठनात्मक बदलाव का इन्तजार कर रहे थे, कांग्रेस पार्टी में शुक्रवार ( 11 सितंबर 2020 ) को संगठनात्मक बदलाव हुआ, समर्थकों को उम्मीद थी कि उदित राज को कोई पद जरूर मिलेगा लेकिन सूची आने के बाद निराशा ही हाथ लगी, अध्यक्ष तो दूर की बात कांग्रेस ने उदित राज को महसचिव के पद लायक भी नहीं समझा। कांग्रेस पार्टी में उदित राज को कोई पद न मिलने से उनके समर्थक खासे नाराज हैं।

 

जानकारों का कहना था कि उदित राज को अध्यक्ष बनाने का कांग्रेस को दो फायदा होगा, पहला फायदा ये कि उदित राज के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद अन्य पार्टियां ये नहीं कह पाएंगी कि कांग्रेस में गांधी सरनेम वाला ही अध्यक्ष बनता है, दुसरा फायदा ये कि उदित राज को कांग्रेस अध्यक्ष बनाकर कांग्रेस अपना दलित प्रेम और विश्वस्त कर सकती है, लेकिन ये सब सिर्फ अटकलें ही रह गईं, कांग्रेस ने उदित राज को कोई भी पद नहीं दिया।

सोनिया गाँधी को अध्यक्ष पद से हटाने को लेकर लिखी गई चिट्ठी के बाद कांग्रेस पार्टी ने बड़ा संगठनात्मक फेरबदल किया गया है, कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला का पार्टी में प्रमोशन हुआ है तो वहीँ गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे समेत 4 वरिष्ठ नेताओं से बड़े पद छीन लिए गए हैं।

loading...