अरुण शौरी पर दर्ज होगा केस, अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में धड़ाधड़ बेंची थी सरकारी कम्पनियाँ

पूर्व केंद्रीय रहे अरुण शौरी की अब जेल जाने की नौबत आ चुकी है, राजस्थान में जोधपुर की विशेष सीबीआई अदालत ने अरुण शौरी समेत पांच लोगों के खिलाफ केस दर्ज करने का आदेश दिया है। अदालत ने यह आदेश लक्ष्मी विलास होटल को बाजार मूल्य से बहुत कम दाम में बेचने के मामले में दिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अदालत ने कहा कि जिस होटल की कीमत ढाई सौ करोड़ रुपये से भी ज्यादा थी, उन्हें सिर्फ सात करोड़ रुपये के औने-पौने दाम लेकर बेच दिया गया। आपको बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में अरुण शौरी विनिवेश मंत्री थे जिनके रहते मंत्रालय ने कई बड़ी सरकारी कंपनियों के सौदे को मंजूरी दी थी। अब वो इन्हीं सौदों में एक को लेकर निशाने पर आ गए हैं।

वाजपेयी सरकार ने सरकारी कंपनियों को निजी हांथों में सौंपने के मकसद से 10 दिसंबर, 1999 को अलग विनिवेश विभाग का ही गठन कर दिया था। फिर 6 सितंबर, 2001 को विनिवेश मंत्रालय बना दिया गया जिसकी कमान अरुण शौरी के हाथों सौंप दी गई। शौरी को प्रधानमंत्री वाजपेयी का भरपूर समर्थन प्राप्त था। इस कारण शौरी ने विनिवेश की राह पर तेज रफ्तार लगाई और कई बड़ी कंपनियों का सौदा कर डाला। जो अब शौरी के लिए मुसीबत बन गई है।

loading...