फारूक अब्दुला ने फिर उगला भारत के खिलाफ जहर, कहा- हम चाहते हैं कश्मीर पर चीन साशन करे

श्रीनगर, 24 सितंबर: जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने एक बार फिर देश विरोधी बयान दिया है, फारूक अब्दुल्ला ने ऐसे समय में देश के खिलाफ जहर उगला है जब भारत और चीन के मध्य लद्दाख में LAC पर विवाद चल रहा है। अक्सर पाकिस्तान के प्रति प्रेम दिखाने वाले वाले फारुख अब्दुल्ला ने इस बार चीन के प्रति प्रेम अपना प्रेम दिखाया है, जी हाँ! फारूक अब्दुल्ला जैसे लोग खाते भारत का हैं, रहते भारत में हैं। लेकिन गुणगान चीन और पाकिस्तान का करते हैं।

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री व् कश्मीरी राजनैतिक पार्टी नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि कश्मीर के लोग खुद को भारतीय नहीं मानते हैं और न ही भारतीय होना चाहते हैं। लोकसभा सांसद फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि इसके बदले कश्मीरी चाहते हैं कि चीन उन पर शासन करें।

फारूक अब्दुल्ला ने कहा, ईमानदारी से कहूं तो मुझे हैरानी होगी अगर उन्हें (सरकार) वहां कोई ऐसा शख्स मिल जाता है जो खुद को भारतीय बोले। अब्दुल्ला ने आगे कहा, आप जाइए और वहां किसी से भी बात कीजिए.. वे खुद को भारतीय नहीं मानते हैं और न ही पाकिस्तानी.. मैं यह आपको स्पष्ट कर दूं। पिछले साल 5 अगस्त को उन्होंने (मोदी सरकार ने) जो किया, वह ताबूत में आखिरी कील था। फारुख अब्दुल्ला ने ये देशविरोधी बातें एक वेबसाइट को दिए गए इंटरव्यू में कही.

आपको बता दें कि जबसे जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटी है तबसे फारूक अब्दुल्ला जैसे लोग बिलबिलाये हुए हैं, बहाली की मांग कर रहे हैं. 370 हटने के बाद फारूक अब्दुल्ला कई महीनें हाउस अरेस्ट भी थे, अगर ये देशविरोधी तत्व हॉउस अरेस्ट न होते तो घाटी में दंगा फैला सकते थे।

फरुख अब्दुल्ला के देशविरोधी बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए जम्मू कश्मीर के भाजपा अध्यक्ष रवींद्र रैना ने कहा की फारुख अब्दुल्ला ने हमेशा खाया हिंदुस्तान का लेकिन हमेशा ही हिंदुस्तान के पीठ पर वार करने की कोशिश की, रैना ने कहा की फारूक अब्दुल्ला पिछले एक साल से जेल में बंद थे, लगता है 2-4 साल और इन्हें जेल में डालने पड़ेंगें।

loading...