फरीदाबाद में ‘फिर हेराफेरी’ फिल्म के अंदाज में करोड़ों का घोटाला, एक FIR दर्ज

faridabad-finance-scam-fir-502-lodged-inballabhgarh-thana-police

फरीदाबाद, 22 सितम्बर: फिर हेरा फेरी फिल्म करीब करीब सबने देखी होगी, इस फिल्म में एक कंपनी एक साल में पैसा डबल करने का लालच देती है, लोग लालच में पड़कर अपनी जमा पूँजी कंपनी को देते हैं लेकिन कंपनी पैसा लेकर भाग जाती है.

बल्लभगढ़ में भी ऐसा ही फ्रॉड हुआ है जहाँ एक कंपनी ने पैसा डबल करने का लालच देकर निवेश करवाया लेकिन सारा पैसा हजम कर लिया और निवेशक को सिर्फ मूर्ख बनाता रहा, एक पीड़ित की शिकायत पर मु0न0 502 दिनांक 21.09.2020 धारा U/S 420,406,506,120B IPC 3 HARYANA PROTECTON OF INTREST OF DEPOSITORS IN FIANANCIAL ESTABLISTMENT ACT 2013 थाना शहर बल्लभगढ में रजिस्टर किया गया है. अन्य लोग भी शिकायत कर सकते हैं. कुल 500 करोड़ रुपये का घोटाला बताया जा रहा है.

विजय कुमार बंसल उर्फ बिजेन्द बंसल ने दर्ज करवाई FIR
FIR में दी गयी सूचना के मुताबिक़ –

सेवा में, श्रीमान पुलिस आयुक्त महोदय, सैक्टर 21सी जिला फरीदाबाद । बिषय:- यू.एफ.एल. पोर्ट फोलिया लि0 नजदीक अग्रवाल धर्मशाला,बल्लबगढ व उसके डायरेक्टर महेन्द्र गोयल पुत्र श्री मनोहर लाल, हरिओम गोयल पुत्र श्री सुरेन्द्र कुमार, श्रीमती मोनिका गोयल पत्नी श्री मुकेश गोयल और सुरेन्द्र गोयल, चुन्नीलाल पुत्रान श्री मनोहर लाल सभी निवासीगण पुन्हाना, हालाबाद सैक्टर-8, फरीदाबाद व हरिओम मित्तल पुत्र श्री श्रीचन्द मित्तल निवासी मकान न0 1629, सैक्टर-3, बल्लबगढ, फरीदाबाद के खिलाफ धोखाधडी व जालसाजी से पैसे ऐंठने बाबत एफ.आई.आर. दर्ज करके कानूनी कार्यवाही करने बारे । श्रीमान जी, निवेदन यह है कि मैं, विजय कुमार बंसल उर्फ बिजेन्द बंसल पुत्र श्री ओम प्रकाश निवासी मकान न0 904, सैक्टर-18, एच.बी. कालोनी, फरीदाबाद का निवासी हूं और प्राईवेट जॉब करता हूं । मेरी पत्नि स्नेहलता व मेरी लडकी स्वाति भी प्राईवेट जॉब करती है। उपरोक्त हरी ओम मित्तल मेरे मामा का लडका है व सुरेन्द्र गोयल, महेन्द्र गोयल व चुन्नी लाल उसके साले है।

श्रीमती मोनिका गोयल, सुरेन्द्र गोयल के लडके मुकेश गोयल की पत्नि है जिसको कि महेन्द्र गोयल और हरिओम गोयल के साथ यू.एफ.एल.पोर्ट फोलिया लि0 की डायरेक्टर बताते है। मेरे मामा का लडका हरिओम मित्तल जनवरी,2014 में सुरेन्द्र व महेन्द्र गोयल को मेरे पास लेकर आया और कहने लगा कि ये मेरे साले यू.एफ.एल. पोर्ट फोलिया लि0 नाम से कम्पनी चलाते है और जो भी इनके यहां रकम जमा कराता है उस रकम पर ये अच्छा मुनाफा ब्याज के रुप में 4 साल में दोगुनी करके वापिस करते हैं। हरिओम मित्तल को इस बात की जानकारी थी कि मैं, मेरी पत्नि व मेरी लडकी सभी जॉब करते है और हमने कई सालों से अपनी जॉब से पूंजी इकट्ठी की हुई है। 27-01-2014 को मुझसे हरिओम मित्तल,सुरेन्द्र गोयल और महेन्द्र गोयल अपने जाल मे फंसाकर मु0 2,70,000/-रु0 ले गये जिसकी एवज में मुझे 1-2 दिन बाद मेरे व मेरी लड़की स्वाती के नाम दो एफ.डी.आर0 न0 263 व 270 अपनी कम्पनी की 4 साल में दोगुणा यानि मु0 5,40,000/-रू0 वापिस करने का वादा करके रसीद के रूप मे दे गये।

मुझसे सुरेन्द्र व महेन्द्र ने यह भी वादा किया था कि यदि आपको बीच मे पैसों की जरूरत पडेगी तो हम उसी ब्याज की दर के साथ आपकी रकम वापिस कर देंगे जिस दर पर एफ.डी.आर. बनाई गई फिर दोबारा महेन्द्र व सुरेन्द्र हरिओम मित्तल के साथ आये और मुझसे दिनांक 22-05-2014 को मु0 70,000/- और दिनांक 23-06-2014 को मु0 1,00,000/-रू नकद ले गये। जिसकी एवज मे भी मुझे उपरोक्त की तरह दो एफ.डी.आर. न0 294 व एफ.डी.आर. न0 300 रसीद के रूप मे दे गये। इसके बाद महेन्द्र व हरिओम गोयल ने मुझे दिसम्बर, 2014 के आखिर मे अपने कार्यालय बल्लबगढ़ बुलाया तथा मुझपर अपने लालच के वशीभूत होकर फिर पैसे जमा कराने के लिये दबाब बनाया और 02-01-2015 को मुझसे 1 लाख रू0 मंगा लिया जिसकी एवज मे भी मुझे एफ.डी.आर. न0 332 जारी कर दी। हरिओम मित्तल के कहने पर उपरोक्त सुरेन्द्र व महेन्द्र ने मुझे विश्वास मे ले लिया और सुरेन्द्र,महेन्द्र व हरिओम गोयल मुझसे दिनांक 09-03-2015 को मु 60,000/- दिनांक 01-05-2015 को मु0 50,000/-,दिनांक 21-07-2015 को फिर 50,000/- व दिनांक 11-09-2015 को मु0 2,00,000/-रु0 नकद ले गये जिसकी एवज में मुझे उपरोक्त की तरह एफ.डी.आर. न0 345,359,372,374 व 387 मेरी लडकी स्वाती, मेरी पत्नि स्नेहलता व मेरे नाम जारी करके अपने कार्यालय बल्लबगढ़ में मुझे सौंप दी। दिनांक 27-12-2015 को मैं जनवरी ,2014 में अपना जमा की हुई राशि को मय ब्याज अपनी बेटी स्वाति की शादी के लिये इनके कार्यालय चावला कालोनी,बल्लबगढ गया तो वहां मौजूद सुरेन्द्र व हरिओम गोयल ने मुझे एक सप्ताह बाद रकम वापिस ले जाने को कहा।

मैं इनके बताये गये समय के मुताबिक फिर एक सप्ताह बाद इनके पास रकम मांगने के लिये गया तो वहां मौजूद सुरेन्द्र, महेन्द्र व हरिओम गोयल ने अपने वादे के अनुसार पैसे वापिस करने से मना कर दिया और कहा कि आप की रकम एफ.डी.आर की मैच्योरिटी पर ही मिलेगी।

मैने इस बाबत अपने मामा के लडके हरिओम मित्तल को भी कहा तो वह भी इनकी सुर में बोलने लगा और उपरोक्त दोषियान ने मुझे मेरी काफी मिन्नतें करने के बाद भी रकम वापिस ना की। मैंने जैसे-तैसे अपनी लडकी स्वाति की शादी 31-01-2016 को कर दी। अब जब मैं अपनी एफ.डी.आर. न0 263,270 जोकि जनवरी ,2018 में मैच्योर हो गई थी उनकी रकम मय ब्याज मांगने के लिये इनके पास गया तो इन्होंने मुझे बार-बार चक्कर कटाकर परेशान कर दिया परन्तु मेरी रकम वापिस ना की । तब तक मेरी मई, 2018 व जून, 2018 वाली एफ.डी.आर. भी मैच्योर हो गई थी तो दिनांक 24-06-2018 को मैं अपने साथी राकेश के साथ हरिओम मित्तल के घर सैक्टर-3 अपनी रकम वापिस मांगने गया तो वहां मौजूद सुरेन्द्र, महेन्द्र, चुन्नी लाल व हरिओम मिले। जब मैंने सुरेन्द्र, महेन्द्र व हरिओम से अपनी रकम मांगी तो वहां मौजूद चुन्नी लाल ने तैश में आकर कि तकादा करने की जरुरत नहीं हैं और कभी तकादा किया तो जान से खत्म कर दूंगा। मैं इनकी धमकी से डर चुका था व अपनी रकम को खोना नहीं चाहता था। इस वजह से चुप बैठ गया था। अब मुझे लगने लगा था सुरेन्द्र गोयल, महेन्द्र गोयल व हरिओम मित्तल ने एक पूर्ण नियोजित षडयंत्र के तहत सभी दोषीयान ने मिलीभगत करके अपनी बनाई हुई उपरोक्त कम्पनी में मुझसे धोखाधडी करके उक्त रकम जमा कराई है।

मैंने सुरेन्द्र, महेन्द्र व हरिओम गोयल से कई बार अपनी जमा राशि को मय ब्याज वापिस करने के लिये कहा है परन्तु इन्होंने मेरी जमा राशि को वापिस करने से मना कर दिया है।इस प्रकार इन्होंने और भी हजारों व्यक्तियों से पांच सौ करोड रु0 से ज्यादा रकम लेकर ठगा हुआ है और इनके खिलाफ विभिन्न अदालतों व थानों में काफी केस चल रहे हैं। यू.एफ.एल. पोर्ट फोलिया लि0 कम्पनी की आड में उसके डायरेक्टर महेन्द्र, मोनिका व हरिओम गोयल के साथ मिलकर इन्होंने मुझसे धोखाधडी करके रम जमा कराई है जबकि इस तरह की एफ.डी.आर. बनाकर देने का इन्हें कोई अधिकार भी ना था। जिसको कि ये मेरे द्वारा कई बार मांगने के बावजूद भी वापिस नहीं कर रहे हैं। श्रीमान जी मैंने इस बाबत एक दरखास्त 10-09-2019 को पुलिस चौकी चावला कालोनी, बल्लबगढ(थाना शहर बल्लबगढ) में दी जिसपर मुझसे वहां मौजूद पुलिस अधिकारी ने मेरी दरखास्त तो ले ली लेकिन मुझे उसका ना ही तो उसका कोई डायरी नंबर दिया और ना ही कोई रशीद दी तथा मुझे दिनांक 15.09.2019 को दोबारा आने के लिए बोल दिया मै दिनांक 15-09-2019 को दोबारा पुलिस चौकी गया , वहाँ मौजूद महेन्द्र गोयल, चुन्नीलाल गोयल व हरीओम मित्तल को पुलिस अधिकारी महोदय ने बुला रखा था और मुझसे अलग से एक दरखास्त लिखबाने के लिए पुलिस अधिकारी महोदय ने बोला । श्रीमान जी मैने पुलिस अधिकारी महोदय को बोला कि जो दऱाखास्त मैने 10.09.2019 को दी है मेरी वही दरखास्त है उसी को पढा जाये इतने मे पुलिस अधिकारी महोदय ने महेन्द्र गोयल बगैरा को वापस भेज दिया । श्रीमान जी पुलिस चौकी चावला कालोनी वाले दोषियान के खिलाफ कार्यवाही करने से कतरा रहे है अत श्रीमान जी से प्रार्थना है कि उपरोक्त दोषियान के खिलाफ धोखाधाडी वा हरियाणा प्रोटेक्शन आफ ईन्ट्रस्ट आफ डिपोसटिर इन फाईनैन्सियल ईस्टबैलिसमैन्ट एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज करके सख्त से सख्त कानूनी कार्यावाही की जाये । जनाब की अति कृपा होगी ।

पुलिस ने शुरू की जांच

पुलिस ने इस धोखाधड़ी के मामले की जाँच शुरू कर दी है, अभी तक आरोपियों की गिरफ्तारी की खबर नहीं है, जैसे ही कोई कार्यवाही होगी, पाठकों को अपडेट किया जाएगा।

loading...