योगीराज में गाँव लौटा फौजी का परिवार, अखिलेश सरकार में कर दी गई थी परिवार के 5 लोगों की हत्या

बागपत, 7 सितंबर: परिवार के 5 लोगों की हत्या होने के बाद एक फौजी का परिवार अपने गाँव से पलायन कर गया था, 7 साल बाद वो फिर अपने गॉंव लौट आया है। मामला यूपी के बागपत जिले का है, परिवार का कहना है कि योगी आदित्यनाथ की सरकार में कानून व्यवस्था में काफी ज्यादा सुधार हुआ है जिसकी वजह से हम दोबारा अपने गाँव लौटने की हिम्मत जुटा पाए हैं.

कानून-व्यवस्था में सुधार होने के चलते 7 साल बाद गाँव लौटे फौजी परिवार ने पुलिस की मदद से उन्होंने अपना घर, जमीन और संपत्ति भी वापस पा ली है।

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा जब से योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश की कमान सँभाली है तब से प्रदेश का माहौल बहुत बेहतर हुआ है। जिस तरह सरकार ख़ूँख़ार अपराधियों पर कार्रवाई कर रही है और उन्हें सज़ा सुनाई जा रही है, वह सराहनीय है। आपको बता दें कि परिवार के साथ गाँव वापसी करने वाले प्रवेश राठी भारतीय सैनिक हैं और अभी जयपुर में तैनात हैं।

सेना के जवान राठी ने कहा कि योगी राज में प्रदेश के तमाम जिलों में लोगों के बीच अपराध को लेकर भय कम हुआ है। इस देखकर मुझे लगा कि हालात पहले से बेहतर हैं और मेरी वापसी संभव है। तो मैंने वापसी कर ली।

जानकारी के अनुसार, पुराने विवाद के चलते प्रवेश राठी के परिवार के 5 लोगों की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। मरने वालों में उनकी माता सरोज, पिता रामवीर, उनके भाई प्रवीण और संजीव शामिल थे। इसके अलावा भी उनके घर पर कई बार गोलीबारी की गई थी। हत्या का आरोप गाँव के ही प्रमोद गंगनोली और उसके परिवार वालों पर लगा था। प्रमोद गंगनौली पर एक लाख रुपए का इनाम भी रखा गया था। उसे हाल ही में गिरफ्तार किया गया है।

इस भयंकर घटना से भयभीत और आहत होकर फौजी के परिवार ने गाँव छोड़ दिया था। यह घटना साल 2013 में हुई थी जब उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार थी और अखिलेश यादव मुख्यमंत्री थे। यह हत्याएँ उस वक्त हुई जब पुलिस की तरफ से सुरक्षा मिली हुई थी। वर्तमान सरकार के सत्ता में आने के बाद प्रवेश राठी का मनोबल बढ़ा और उन्होंने गाँव वापस लौटने का फैसला लिया।