कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम ने किया हिंदी का विरोध, कहा- लोगों पर हिंदी थोपना बंद किया जाय

नई दिल्ली, 14 सितम्बर: पूरा देश आज हिंदी दिवस मना रहा है..लोग हिंदी में हिंदी के प्रति अपने विचार लिख रहे हैं तो वहीँ हिंदी दिवस पर कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम ने हिंदी का विरोध किया है, कार्ति का कहना है कि हिंदी राष्ट्रीय भाषा नहीं है, लोगों पर इसे थोपा नहीं जाना चाहिए।

तमिलनाडु से कांग्रेस सांसद और पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के एक बयान के जवाब में ट्वीट करते हुए कहा कि हिंदी को किसी पर जबर्दस्ती थोपा नहीं जाना चाहिए। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा है कि हिंदी भाषा सदियों से लोगों को एकजुट करती रही है.

आपको बता दें कि देशवासियों को हिंदी दिवस की शुभकामनाएं देते हुए अमित शाह ने अपने ट्वीट में लिखा, हिंदी भारतीय संस्कृति का अटूट अंग है। स्वतंत्रता संग्राम के समय से यह राष्ट्रीय एकता और अस्मिता का प्रभावी व शक्तिशाली माध्यम रही है। हिंदी की सबसे बड़ी शक्ति इसकी वैज्ञानिकता, मौलिकता और सरलता है। मोदी सरकार की नयी शिक्षा नीति से हिंदी व अन्य भारतीय भाषाओं का समांतर विकास होगा।

एक अन्य ट्वीट में केंद्रीय गृहमंत्री ने लिखा, एक देश की पहचान उसकी सीमा व भूगोल से होती है, लेकिन उसकी सबसे बड़ी पहचान उसकी भाषा है। भारत की विभिन्न भाषाएं व बोलियां उसकी शक्ति भी हैं और उसकी एकता का प्रतीक भी। सांस्कृतिक व भाषाई विविधता से भरे भारत में ‘हिंदी’ सदियों से पूरे देश को एकता के सूत्र में पिरोने का काम कर रही है।

loading...