बिहार चुनाव में ताल ठोंकेंगे डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय, राज्यपाल ने VRS को दी मंजूरी

पटना, 22 सितंबर: बिहार में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है, इस चुनावी दंगल में बिहार के मौजूदा पुलिस महानिदेशक ( डीजीपी ) गुप्तेश्वर पांडेय भी ताल ठोंकेंगें, राज्यपाल ने मंगलवार को इसकी मंजूरी दे दी।

दरअसल बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय लम्बे समय से वीआरएस की मांग कर रहे थे, जिसे मंगलवार को बिहार के राज्यपाल ने मंजूर कर लिया।

VRS मतलब होता है वॉलेंटरी रिटायरमेंट यानी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति, बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय अगर वीआरएस न लिए होते तो अभी उनका कार्यकाल और चलता लेकिन वीआरएस ले लिए अब उनको पद छोड़ना पड़ेगा। वैसे भी चुनाव लड़ने के लिए सरकारी नौकरी का मोह त्यागना ही पड़ता है, जिसे डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने त्याग दिया है।

बिहार की राजनीति को करीब से समझने वालों का मानना है कि गुप्तेश्वर पांडेय बक्सर विधानसभा से चुनाव लड़ सकते हैं, हालाँकि किसी राजनैतिक पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ते हैं या निर्दलीय ताल ठोंकते हैं, अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। नीतीश कुमार के साथ गुप्तेश्वर पांडेय की करीबियों को देखकर लगता है कि वो जेडीयू की टिकट पर चुनाव लड़ेंगें। कुछ दिन में स्थिति स्पष्ट हो जायेगी।

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत केस में बिहार के डीजीपी पद पर आसीन गुप्तेश्वर पांडेय जिस तरह का बयान दे रहे थे, उससे साफ़ हो गया था कि वो अब राजनीती में आना चाहते हैं, आख़िरकार अब आएंगे ही।

loading...