UP पुलिस ने प्रशांत कनोजिया को दिल्ली से किया गिरफ्तार, महिंद्रा TUV में बैठाकर लेकर जा रही लखनऊ

सोशल मीडिया पर नफरती पोस्ट करने वाले प्रशांत कनौजिया नाम के कथित एक्टिविस्ट को यूपी पुलिस ने लखनउ से गिरफ्तार कर लिया है, प्रशांत कनौजिया के खिलाफ सोमवार (अगस्त 17, 2020) को लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली में FIR दर्ज की गई थी। प्रशांत पर श्रीराम मंदिर को लेकर फर्जी खबर के जरिए दलितों को भड़काने का आरोप है।

आरोपित प्रशांत कनौजिया ने अयोध्या श्रीराम मंदिर को लेकर विवादित टिप्पणी करते हुए फोटोशॉप के माध्यम से दलितों को भड़काने का प्रयास किया था।  FIR के अनुसार, प्रशांत कनौजिया ने सोशल मीडिया पर जाति, धर्म व वर्ग को बाँटने से संबंधित टिप्पणी की थी। इससे समाज में भय का माहौल हो गया था। शांति व्यवस्था प्रभावित होने की आशंका पर पुलिस ने आरोपित के खिलाफ आइटी एक्ट, सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने व जालसाजी समेत विभिन्न धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है।

आपको बता दें कि प्रशांत कनौजिया खुद को दलित बताता है, हिन्दुओं के खिलाफ जमकर जहर उगलता है, वामपंथियों और टुकड़े-टुकड़े गैंग का प्रबल समर्थक है। इससे पहले भी प्रशांत कनौजिया को यूपी पुलिस ने गिरफ्तार किया था, तब प्रशांत कनौजिया ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी।

प्रशांत कनौजिया ट्विटर पर अक्सर हिन्दू धर्म के खिलाफ नफरत और अफवाह फैलाने के लिए कुख्यात है, खुद को पत्रकार भी बताता है। फिलहाल यूपी पुलिस ने प्रशांत कनौजिया को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है, बताया जा रहा है कि पुलिस प्रशांत कनौजिया को महिन्दा TUV गाडी में बैठाकर लखनऊ ले जा रही है, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद से ही TUV गाडी चर्चा में आ गई है, यूपी पुलिस के साथ जो आरोपी TUV गाडी पर बैठता है जबतक गंतव्य पर नहीं पहुंच जाता तबतक लोगों के मन में अजीब आशंकाएं उठती हैं।