सुप्रीम कोर्ट में सुशांत के पिता के वकील विकास सिंह ने दी दलीलें, आदित्य ठाकरे को भी घसीटा

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के मौत के मामलें में सुप्रीम कोर्ट में बहस हुई, सुप्रीम कोर्ट में आज हुई बहस के दौरान महाराष्ट्र सरकार और रिया चक्रवर्ती ने सीबीआई की तरफ से दर्ज की गई एफआईआर को मुंबई पुलिस को सौंपने की मांग की. इसका बिहार सरकार और सुशांत के पिता के वकील ने पुरजोर विरोध किया।

आपको बता दें कि अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती ने अपने खिलाफ पटना में दर्ज हुई एफआईआर को मुंबई ट्रांसफर करने की मांग करते हुए याचिका दाखिल की थी। सुशांत के पिता की तरफ से दर्ज एफआईआर में रिया के ऊपर सुशांत को परेशान करने, उसके करोड़ों रुपए रुपयों का गबन करने और आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया गया था।

आज सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस ऋषिकेश रॉय की सिंगल बेंच के सामने रिया चक्रवर्ती के वकील श्याम दीवान ने कहा, “पटना में एफआईआर दर्ज होना कानून गलत था। वहीँ महाराष्ट्र सरकार की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि इस मामले में हर कोई वकील और जज बन गया है। कोई इसे हत्या कह रहा है, कोई आत्महत्या। लेकिन पूरे मामले में असल में अपराधिक न्याय प्रक्रिया की हत्या हो रही है। मीडिया के चीखने चिल्लाने वाले एंकर घटना को कितना भी सनसनीखेज बनाकर पेश करें. लेकिन इससे कोर्ट को फर्क नहीं पड़ना चाहिए।

इन सभी का जवाब देते हुए सुशांत सिंह के पिता केके सिंह के वकील विकास सिंह ने महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे का नाम घसीटा, सुप्रीम कोर्ट में विकास सिंह ने दलीलें दी कि दूसरा पक्ष मीडिया रिपोर्ट के आधार पर बहुत कुछ बोल रहा है। लेकिन मीडिया में तो महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के बेटे के भी घटना में शामिल होने को लेकर बहुत कुछ कहा गया है। मैं ऐसी बातों पर कोई दलील नहीं रखूंगा। विकास सिंह ने मुंबई पुलिस की तरफ से की गई जांच पर सवाल उठाते हुए कहा कि मामले की सच्चाई सामने आने के लिए सीबीआई जांच जरूरी है। सीबीआई को जांच सौंपने के लिए जिस प्रक्रिया का इस्तेमाल किया गया है, उसमें भी कानूनी तौर पर कुछ गलत नहीं है।

loading...