राहुल गांधी को रविशंकर ने दिया जवाब, कैम्ब्रिज एनालिटिका में डेटा हथियाने वाले हमसे सवाल कर रहे हैं?

नई दिल्ली, 16 गस्त: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने करारा पलटवार किया है, दरअसल राहुल गांधी ने एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए बीजेपी और आरएसएस पर फेसबुक और वॉट्सएप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स का उपयोग कर फर्जी खबरें फैलाने और नफरत फैलाकर मतदाताओं को प्रभावित करने का आरोप लगाया है, राहुल गांधी के आरोपों का जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि भारत में चुनावों को प्रभावित करने का बीजेपी पर आरोप लगाने का कांग्रेस पार्टी को कोई अधिकार नहीं है।

रविशंकर प्रसाद ने राहुल गांधी के ट्वीट का जवाब देते हुए कहा, “अपनी खुद की पार्टी में भी लोगों को प्रभावित नहीं कर सकने वाले लूजर्स इस बात का हवाला देते रहते हैं कि पूरी दुनिया बीजेपी और आरएसएस के कंट्रोल में है. चुनाव से पहले डेटा को हथियार बनाने के लिए आपको कैम्ब्रिज एनालिटिका और फेसबुक के साथ साठगांठ करते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया था और अब हमसे सवाल कर रहे हैं?

आपको बता दें कि 2018 में, ब्रिटेन स्थित कैम्ब्रिज एनालिटिका तब सुर्खियों में रही थी, कैम्ब्रिज एनालिटिका मामले के व्हिसिल ब्लोअर क्रिस्टोफर विली ने ब्रिटिश सांसदों को बताया था कि उनका “मानना है” कि भारत में कांग्रेस पार्टी क्षेत्रीय स्तर पर कंपनी की क्लाइंट थी।

रविशंकर प्रसाद के पलटवार से पहले राहुल गांधी ने वाल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा था कि सोशल मीडिया दिग्गज बीजेपी नेताओं के नफरत फैलाने वाले कथित भाषणों को लेकर उदासीन है ताकि भारत में अपने व्यापार के हितों की रक्षा कर सके.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनें ट्वीट में लिखा, भाजपा-RSS भारत में फेसबुक और व्हाट्सएप का नियंत्रण करती हैं। इस माध्यम से ये झूठी खबरें व नफ़रत फैलाकर वोटरों को फुसलाते हैं। आख़िरकार, अमेरिकी मीडिया ने फेसबुक का सच सामने लाया है।