हनुमान मंदिर में बज रही थी रामधुन, पुलिस ने उतरवा लिए लाऊडस्पीकर, झारखण्ड सरकार का था आदेश?

जमशेदपुर, 6 अगस्त: देशभर में राममंदिर भूमिपूजन को लेकर ख़ुशी का माहौल है, उत्सव मनाया जा रहे है, मंदिरों में सजावट है, कहीं हनुमान चालीसा का पाठ हो रहा है तो कहीं रामायण चल रही तो कहीं रामधुन बज रही है, लोग राममय हैं, इसी तरह का उत्सव झारखंड के जमशेदपुर में स्थित एक मंदिर में मनाया जा रहा था और रामधुन चल रही थी जो झारखंड सरकार को पसंद नहीं आया और पुलिस भेजकर लाउडस्पीकर उतरवा दिया और रामधुन बंद करवा दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, झारखंड में कदमा के शास्त्री नगर स्थित हनुमान मंदिर में बुधवार ( 5 अगस्त, 2020 ) को लाउडस्पीकर से रामधुन बजाया जा रहा था। यह देखकर कदमा थाना की पुलिस वहां पहुंची और लाउडस्पीकर उतरवा दिया। इसका मंदिर कमेटी ने विरोध किया तो पुलिस का कहना था कि इससे सांप्रदायिक माहौल बिगड़ सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस मुद्दे पर थाने के दरोगा का यह भी कहना था कि सरकार की तरफ से आदेश जारी किया गया है। इसलिए रामधुन नहीं बजाई जाएगी। इससे माहौल बिगड़ने की आशंका बढ़ती है। जिस पर भाजपा नेता देवेन्द्र सिंह ने कहा “हम झारखंड सरकार के इस असंवैधानिक कार्रवाई का पुरजोर विरोध करते हैं। झारखंड सरकार की बाबरी नीति और औरंगज़ेब मानसिकता को हम किसी भी सूरत में स्वीकार नहीं करेंगे।

हालाँकि कुछ स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि इस घटना की जानकारी किसी व्यक्ति ने ट्विटर पर साझा कर दी थी। जिस पर संज्ञान लेते हुए डीजीपी एमवी राव ने शहर जमशेदपुर एसएसपी को मामले पर कार्रवाई के आदेश दिए। साथ ही उनका यह भी कहना था कि अगर ऐसी किसी घटना की वजह से लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँची है तो उस पर तुरंत कार्रवाई होनी चाहिए।

गौरतलब है कि कल ( 5 अगस्त, 2020 ) को अयोध्या में राममंदिर भूमिपूजन का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ. इस कार्यक्रम में पीएम मोदी, सीएम योगी आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत समेत देश की कई जानी-मानी हस्ती मौजूद थी, आपको बता दें कि झारखंड में झामुमों और कांग्रेस की गठबंधन सरकार है. इसी सरकार ने रामधुन बंद कराकर लाउडस्पीकर उतारनें का आदेश दिया था.

loading...