बकरीद मनानें घर लौट रहे पश्तून मजदूरों को पाकिस्तान ने गोलियों से भून डाला, 15 की मौत, 80 घायल?

आज मुस्लिमों का त्यौहार बकरीद है और बकरीद मनानें के लिए घर लौट रहे पश्तून मजदूरों को पाकिस्तान ने गोलियों से भून दिया, ये पूरा मामला अफगानिस्तान सीमा पर बलूचिस्तान स्थित चमन सीमा चौकी का है, जहाँ पाकिस्तानी रेंजर्स ने पश्तून मजदूरों पर बेवजह ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर बेकसूरों का खून बहा दिया, पाकिस्तान द्वारा की गई गोलीबारी में 15 पश्तून मजदूरों की दर्दनाक मौत हो गई जबकि सैकड़ों लोग घायल हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये घटना 30 जुलाई 2020 को तब घटी जब चमन-स्पिन बोल्डक सीमा पार से लगभग 150 लोग पाकिस्तानी सीमा पर एकत्र हुए। उनमें से कई ईद के लिए अफगानिस्तान में प्रियजनों से मिलने की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन सीमा को बंद कर दिया गया था।

अफगान अधिकारियों ने शुक्रवार (जुलाई 31, 2020) को कहा कि पाकिस्तान ने अपनी दक्षिण-पश्चिमी सीमा पर रॉकेटों से गोलाबारी की, जिसमें कई लोगों की जानें गई हैं और 80 से अधिक लोग घायल हो गए। पाकिस्तान ने कहा कि अफगान सीमा रक्षकों ने पहले गोलीबारी की और इस हमले के लिए उन्हें दोषी ठहराया है।

सीमा पर तनाव बढ़ने के कारण अफगानिस्तान ने अपनी आर्मी और एयरफोर्स को भी हाई अलर्ट पर कर दिया है। जुलाई माह की शुरुआत में ही, पाकिस्तान ने अफगानिस्तान के उत्तर-पूर्वी कुनार प्रांत में रॉकेट दागे, जिसमें तीन लोग मारे गए थे।

जानकारी के अनुसार, चमन सीमा चौकी को मार्च से ही कोरोना वायरस महामारी के चलते बंद था। बकरीद को लेकर गत बुधवार को इसे खोला गया था, ताकि दोनों तरफ के लोग अपने मूल स्थानों पर जा सकें। पाकिस्तान में रहने वाले कई पश्तून, अफगानिस्तान में मजदूरों के रूप में काम करते हैं, काम के लिए सीमा पार करते हैं और रात में घर लौटते हैं। लेकिन बकरीद से ठीक पहले पाकिस्तान ने गोलीबारी करके 15 पश्तूनों को मौत के घाट उतार दिया।

loading...