नेपाल की जमीन पर चीन के कब्‍जे का खुलासा करने वाले पत्रकार बलराम का मिला शव, ह्त्या की आशंका

काठमांडू, 14 अगस्त: नेपाल की जमीन पर चीन के अवैध कब्जा का खुलासा करनें वाले नेपाल के पत्रकार बलराम बनिया का शव मिला है, पत्रकार का शव मिलनें के बाद हड़कंप मच गया है।

नेपाल के 50 वर्षीय पत्रकार बलराम बनिया मंगलवार (11 अगस्त 2020) को मृत पाए गए थे। उनका शरीर मकवानापुर, सिसनेरी के मंडो हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट के पास बरामद किया गया था। लगभग 2 महीने पहले उन्होंने नेपाल के रुई गाँव पर चीन के कब्ज़े की ख़बर तैयार की थी। बलराम सोमवार तक अपने परिवार से संपर्क में थे। उसके बाद सम्पर्क टूट गया.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पत्रकार का शरीर बागमती नदी में बालखु पुल के पास तैरता हुआ पाया गया था। जिसके बाद उन्हें हेतौडा अस्पताल लेकर जाया गया था। उनका शव एक दिन पहले यानी मंगलवार को ही बरामद कर लिया गया था। बलराम बनिया नेपाल के अख़बार ‘कान्तिपुर डेली’ में कार्यरत थे।

जानकारी के अनुसार, चीन ने नेपाल के उत्तरी गोरखा में रुई गांव पर किया कब्‍जा कर लिया है, इसका खुलासा सबसे पहले पत्रकार बलराम बनिया ने ही किया था, चीन ने नेपाल के जिस गाँव पर कब्जा किया है, उसमें तकरीबन 72 घर आते हैं। नेपाल सरकार, गोरखा गांव में चीन के अतिक्रमण की बातों को छिपा दिया है। गोरखा का रुई गांव जो गोरखा के रुई भोट के अंतर्गत आता है, अब चीन के स्वायत्त क्षेत्र तिब्बत के कब्‍जे में आ गया है।

बताया जा रहा है कि रुई गांव क्षेत्र अभी भी नेपाल के नक़्शे में शामिल है, लेकिन वहां पर अब पूरी तरह से चीन का कब्जा है, जो चीनी कह रहे हैं, वहां के लोग वही कर रहे हैं।