भीषण धमाके के बाद आगबबूला हुए देशवासी, लेबनान के प्रधानमंत्री ने पूरी कैबिनेट के साथ दिया इस्तीफ़ा

बेरुत, 10 अगस्त: बीते मंगलवार को राजधानी बेरुत में हुए भीषण धमाके को लेकर उपजे जनाक्रोश के चलते लेबनान के प्रधानमंत्री हसन दियाब ने अपनी पूरी कैबिनेट के साथ इस्तीफा दे दिया है।

150 से ज्यादा लोगों की जान लेने वाले धमाके की जांच में सरकारी महकमे की लापरवाही और सरकार की अयोग्यता को लेकर लोगों ने सवाल उठाते हुए देशभर में प्रदर्शन करना शुरू कर दिया था। जनता के भारी आक्रोश के चलते एक-एक करके मंत्रियों ने इस्तीफा देना शुरू कर दिया था। इससे सरकार दबाव में थी और उसे समय रहते कोई ना कोई फैसला लेना ही था।

बताया जाता है कि पहले कैबिनेट के तीन मंत्रियों ने इस्तीफा दिया… बाद में संसद के सात सदस्यों ने भी पद छोड़ दिया था। बाद में भारी जनाक्रोश को देखते हुए प्रधानमंत्री हसन दियाब ने राष्ट्रीय टेलीविजन पर राष्ट्र के नाम अपने संदेश में खुद सामूहिक इस्‍तीफे की घोषणा की।

आपको बता दें कि लेबनान की राजधानी बेरुत में हुए धमाके में अबतक 150 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और 4 हजार से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। हैरान कर देनें वाली बात यह कि 2 लाख से ज्यादा लोग बेघर हो गए हैं. हालाँकि, धमाके की भयावहता देखकर लगता है कि मृतकों और घायलों की संख्या बढ़ सकती है। इस्तीफ़ा दे चुके लेबनान के प्रधानमंत्री हसन दियाब ने बताया था कि यह विस्फोट बंदरगाह पर 2700 टन अमोनियम नाइट्रेट से हुआ है।

बेरूत के शहर के गवर्नर मारवान अबाउद ने कहा कि 200,000 से 250,000 लोगों ने अपने घर खो दिए हैं और यहाँ की ऑथोरिटी उन्हें भोजन, पानी और आश्रय प्रदान करने का काम कर रही हैं।

हालांकि लेबनान की राजधानी में इतने भीषण धमाके कैसे हुए, कौन किया, क्या किसी आतंकी संगठन ने किया इसका खुलासा अभी तक लेबनान की सरकार ने नहीं किया है. भीषण धमाके में कई इमारतें तबाह हो गई हैं, दो धमाके हुए हैं जिनमें से एक पोर्ट इलाके में और एक बेरुत शहर के अंदर हुआ है।