मैं एक हिन्दू हूँ, न मैं मस्जिद में जाऊँगा और न वो मुझे बुलाएंगें: CM योगी आदित्यनाथ

अयोध्या में कल ( 5 अगस्त 2020 ) को राममंदिर भूमिपूजन का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। भूमिपूजन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत 175 लोग मौजूद थे, भूमिपूजन कार्यक्रम सम्पन्न होनें के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एबीपी न्यूज़ को एक इंटरव्यू दिया। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने एंकर रुबिका लियाकत के सवालों का बेबाकी से जवाब दिया।

सीएम योगी ने साफ़ शब्दों में कहा कि मैं एक हिन्दू हूँ, योगी हूँ, मस्जिद निर्माण में कतई नहीं जा सकता और न ही वो मुझे बुलाएंगें, अगर मुझा बुला लेंगें तो बहुत सारे लोगों का सेकुलरिज्म खतरे में पड़ जाएगा।

एबीपी न्यूज़ की एंकर रुबिका लियाकत पूछती हैं, सौहार्द कायम करनें के लिए इसी अयोध्या पर राम मंदिर का निर्माण होगा, इसी अयोध्या की धरती पर दूसरे पक्ष द्वारा मस्जिद का निर्माण किया जाएगा, क्या आप ( सीएम योगी आदित्यनाथ ) वहां जायेंगें। रुबिका के इस सवालों का बेबाकी से जवाब देते हुए सीएम योगी कहते हैं कि मुझे मुख्यमंत्री के तौर पर किसी मजहब से परहेज़ नहीं, एक योगी के रूप में पूछेंगे तो कतई मस्जिद निर्माण में नहीं जाऊंगा।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मैं मस्जिद निर्माण में इसलिए नहीं जाऊँगा, क्योंकि मैं एक हिन्दू हूँ और हिन्दू के रूप में मुझे अपनी उपासना विधि के अनुसार आचरण करनें का पूरा अधिकार है। लेकिन दूसरे के कार्य में जानें या हस्तक्षेप करनें का मुझे कोई अधिकार नहीं है।

सीएम योगी ने कहा कि कुछ लोग जो रोजा इफ्तार में जाकर टोपी पहनते हैं, ये सेकुलरिज्म नहीं बल्कि ये ढोंग है। जनता भी फर्जी सेकुलरों की वास्तविकता को पहचानती हैं। इंटरव्यू के दौरान रुबिका पूछती हैं आप एक योगी के नाते मस्जिद में नहीं जायेंगें, एक मुख्यमंत्री के नाते आपका क्या विचार है, इस सवाल का जवाब देते हुए सीएम योगी ने कहा कि मैं वहां ( मस्जिद ) में न वादी हूँ न प्रतिवादी हूँ, इसलिए न मुझे कोई बुलाएगा न, मैं जाऊँगा।’

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मस्जिद में बुलाये जानें का मुझे कोई निमंत्रण नहीं मिलनें वाला है इसे मैं भलीभांति जानता हूँ, जिस दिन वे ( मुस्लिम ) मुझे बुला लेंगें तो बहुत सारे लोगों के सेकुलरिज्म खतरें में पड़ जायेंगें।

loading...