ताहिर हुसैन को बचाने में जुटी केजरीवाल सरकार, अब तक नहीं दी देशद्रोह का केस चलाने की मँजूरी

नई दिल्ली, 22 अगस्त: टुकड़े-टुकड़े गैंग के सरगना कन्हैया कुमार को लम्बे समय तक बचानें वाली दिल्ली की अरविन्द केजरीवाल सरकार अब दिल्ली दंगे के मास्टरमाइंड ताहिर हुसैन को बचानें में जुट गई है।

नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में इस साल फरवरी में भड़के हिन्दू विरोधी दंगों के मुख्य आरोपित ताहिर हुसैन पर कोर्ट ने सख्त टिप्पणी की है। कोर्ट ने कहा कि ताहिर हुसैन के भड़काने पर ही मुस्लिम समुदाय उग्र हुआ और उन्होंने हिन्दू समुदाय के लोगों पर पत्थरबाजी शुरू कर दी। कोर्ट ने शुक्रवार (अगस्त 21, 2020) को आईबी में कार्यरत रहे अंकित शर्मा की हत्या के मामले में दायर की गई चार्जशीट को संज्ञान में लेते हुए उक्त टिप्पणी की।

हालाँकि, कोर्ट को ये भी सूचित किया गया कि दिल्ली पुलिस अब तक ताहिर हुसैन के खिलाफ देशद्रोह का मामला चलाने के लिए सम्बंधित प्राधिकरण से मँजूरी नहीं ले सकी है। बता दें कि देशद्रोह का मामला चलाने के लिए दिल्ली पुलिस को राज्य सरकार से मँजूरी लेनी पड़ती है। अभी तक आम आदमी पार्टी की सरकार ने इस मामले में मँजूरी नहीं दी है।

आपको बता दें कि इससे पहले दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने कन्हैया कुमार को भी बचाने की भरपूर कोशिश की थी, देशद्रोह का मुकदमा चलानें की मंजूरी लम्बे समय बाद दी थी, यही नौटंकी शरजील इमाम मामलें में की और अब ताहिर हुसैन को बचानें में जुट गए हैं, बता दें कि ताहिर हुसैन आम आदमी पार्टी का निलंबित पार्षद है, हो सकता है इसलिए केजरीवाल का दिल पिघल गया हो उसे बचानें के लिए।