चीन ने एक मस्जिद ढहाकर सार्वजानिक शौचालय बनाया, 3 मस्जिदें तोड़ खुलवाई शराब-सिगरेट की दुकान

चीन के शिनजियांग प्रांत में उइगर मुसलमानों पर अत्याचार जारी है, ये अत्याचार दिन-प्रतदिन विकराल रूप धारण कर रहा है, चीन की शी जिनपिंग सरकार ने उइगरों का अस्तित्व धीरे-धीरे समाप्त करनें के लिए मस्जिद को ढाहकर उस स्थान पर सार्वजनिक शौचालय बना दिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकारी प्रशासन की तरफ से आतुश के सुंगाग गाँव में 2016 के दौरान दो मस्जिदों को गिरा दिया गया था और अब इनकी जगह सार्वजनिक शौचालय बना दिया गया है। जिसे चीन द्वारा “मस्जिद सुधार का नाम दिया गया।

सुंगाग से उइघुर नेबरहुड कमेटी के चीफ ने आरएफए को बताया कि टोकूल मस्जिद को ध्वस्त किया गया था। इसके बाद इस जगह पर चीनियों ने शौचालय बनवा दिया। वे कहते हैं, “ये सार्वजनिक शौचालय है… उन्होंने अभी इसे खोला नहीं है, लेकिन यह निर्मित हो चुका है।

उनका कहना है कि उस जगह कोई पर्यटक भी नहीं जाते। चीन ने केवल ध्वस्त किए गए टोकूल मस्जिद के खंडहर को छिपाने के लिए और वहाँ निरीक्षण के लिए जाने वाले समूहों के लिए टॉयलेट बनवाया है। एक अन्य निवासी ने आरएफए को बताया कि वहाँ दो अन्य मस्जिदें थी, जिन्हें 2019 में गिरा दिया गया और उनकी जगह पर अब एक दुकान खोली गई है, जिसमें शराब और सिगरेट मिलती है।

RFA के मुताबिक राष्ट्रपति शी जिनपिंग के Mosque Rectification अभियान के तहत शिनजियांग प्रांत की 70 प्रतिशत मस्जिदें ढहा दी गई हैं। इसके पीछे सामाजिक सुरक्षा को कारण बताया गया है।

उइगर मुसलमानों पर चीन द्वारा किये जा रहे अत्याचार पर सभी इस्लामिक देशों ने चुप्पी साध रखी है, अगर यही भारत में हुआ होता तो अबतक कई इस्लामिक देश एक्टिव हो जाते।