बंगाल: ममता राज में स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराना अपराध, भाजपा कार्यकर्ता सुदर्शन की हत्या

कोलकाता, 15 अगस्त: पूरा भारतवर्ष आज धूमधाम से 74वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है, लोग आजादी के जश्न में डूबे हुए हैं, पूरे देश में “भारत माता की जय”, वन्दे मातरम, इंकलाब जिंदाबाद एवं अन्य नारों की गूंज है, लेकिन पश्चिम बंगाल में स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराना अपराध है, अगर फहराया तो हो सकता है, इसकी कीमत जान देकर चुकानी पड़े, स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने के मामलें में भाजपा बूथ कार्यकर्ता सुदर्शन प्रमाणिक की ह्त्या कर दी गई, ये जानकारी भाजपा नेता कैलाश विजय वर्गीय ने ट्वीट करके दी है, विजयवर्गीय ने आशंका जताई है कि सत्तारूढ़ टीएमसी के गुंडों गुंडों ने भाजपा कार्यकर्ता की ह्त्या की है।

पश्चिम बंगाल प्रभारी और भाजपा का राष्ट्रीय महसचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अपनें ट्वीट में लिखा, ममता राज में स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराना भी अपराध हो गया! आरामबाग क्षेत्र के भाजपा के बूथ कार्यकर्ता श्री सुदर्शन प्रमाणिक की इसी मामले में हत्या कर दी गई। विजयवर्गीय आगे लिखते हैं कि शक है कि ये TMC के गुंडों का काम है। आज हमें इस गुंडा राज से मुक्त होने का संकल्प लेना ही होगा।

बता दें कि बंगाल में भाजपा नेता की ह्त्या का ये कोई नया मामला नहीं है, आये दिन भाजपा नेताओं की हत्याएं होती रहती हैं, लेकिन पुलिस हत्यारों पर लगभग न के बराबर ही कार्यवाही करती है। अब इसे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का दबाव कहें या कुछ और। कुछ दिनों पहले तो एक चुने हुए विधायक की ह्त्या करके शव फंदे पर टांग दिया गया था, जब विधायक के साथ ऐसी घटनाएं हो रही हैं तो आम जनता का क्या होता होगा, इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है.

पश्चिम बंगाल में लगातार हो रही भाजपा नेताओं की ह्त्या पर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खामोश रहती हैं, कभी ट्वीट भी नहीं करती हैं, अगर अन्य राज्य में ऐसे घटनाएं घटती हैं तुरंत ट्वीट करती हैं. निंदा करती हैं। अगर भाजपा साशित राज्य होता है तो लोकतंत्र को खतरे में बताने से गुरेज नहीं करती हैं।

loading...