राममंदिर भूमिपूजन: जातिवादी उन्माद फैलाते हुए पकड़े गए AAP नेता संजय सिंह, जमकर हो रही थू-थू

aap-leader-sanjay-singh-controversial-comment-on-pm-modi

5 अगस्त 2020 को अयोध्या में राममंदिर का भूमिपूजन हुआ, कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए भूमिपूजन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कुल 175 लोगों को आमंत्रित किया गया था, भूमिपूजन के बाद आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने जातिवादी उन्माद फैलानें की कोशिश की लेकिन मिनटों में पर्दाफाश हो गया।

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने शुक्रवार ( 7 अगस्त, 2020 ) को ट्वीट कर कहा कि आज मुझे एक दलित नेता ने फोन किया बोले भाई साहेब राष्ट्रपति दलित उन्हें नही बुलाया गया उप मुख्यमंत्री मौर्या उन्हें नही बुलाया गया। ऐसा क्यों? भाजपा दलितों को मंदिरों से बाहर क्यों रखना चाहती है?

मतलब संजय सिंह दलितों को यह कहकर भड़कानें की कोशिश कर रहे थे कि तुम्हारी कोई इज्जत नहीं है, इसलिए भूमिपूजन में तुम्हें नहीं बुलाया गया।

असलियत ये है कि श्रीरामजन्मभूमि क्षेत्र ट्रस्ट में शामिल कामेश्वर चौपाल दलित ही हैं, भूमिपूजन के दौरान मौजूद थे, इसके अलावा भूमिपूजन का प्रसाद सबसे पहले एक दलित परिवार को भेजा गया।

संजय सिंह के ट्वीट के मुतबिक, यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या को भी राममंदिर भूमिपूजन में नहीं बुलाया गया था जबकि सच्चाई ये है कि केशव प्रसाद मौर्या भूमिपूजन में आमंत्रित थे, उन्होनें ट्विटर पर अपनी एक तस्वीर शेयर करके लिखा भी है कि श्री राम जन्मभूमि परिसर में आयोजित भूमि पूजन कार्यक्रम के भव्य पंडाल में ऐतिहासिक दिन का साक्षी बन रहा हूं l परम सौभाग्य एवं अद्भुत और अलौकिक आनंद की अनुभूति कर रहा हूं I #राम_लला_हम_आ_गए

सोशल मीडिया पर जातिवादी उन्माद फैलानें वाले संजय सिंह को लोग जमकर लताड़ रहे हैं।

loading...