पत्रकार विक्रम जोशी के परिवार को योगी सरकार देगी 10 लाख की आर्थिक मदद, नौकरी और बच्चों को मुफ्त शिक्षा

गाजियाबाद, 22 जुलाई: पत्रकार विक्रम जोशी को दो दिन पहले कुछ बदमाशों ने घेरकर विजय नगर इलाके में गोली मार दी थी, यशोदा अस्पताल में इलाज के दौरान पत्रकार विक्रम जोशी की मौत हो गई, विक्रम जोशी पर हमला भांजी से छेड़छाड़ की शिकायत करने पर बदमाशों ने किया था।

पत्रकार विक्रम जोशी की मौत के बाद उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने आर्थिक मदद का ऐलान किया है, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतक पत्रकार विक्रम जोशी के परिवार को 10 लाख रूपये की आर्थिक सहायता, पत्नी को नौकरी और और बच्चों को निःशुल्क शिक्षा देने का आदेश दिया है।

गाजियाबाद के विजयनगर के रहनें वाले पत्रकार विक्रम जोशी सोमवार रात को माता कॉलोनी निवासी बहन के घर गए थे। रात करीब साढ़े 10 बजे बजे वहां से आते समय कुछ बदमाशों ने उन पर हमला बोल दिया। एक बदमाश ने तमंचा सिर से सटाकर विक्रम को गोली मार दी। घटना को अंजाम देकर हमलावर फरार हो गए। परिजनों के मुताबिक विक्रम जोशी के परिवार की एक लड़की के साथ छेड़छाड़ हुई थी। इस संबंध में थाने में नामजद शिकायत की गई थी। लेकिन पुलिस द्वारा कार्यवाही न करनें पर आरोपियों के हौंसले बुलंद हो गए थे, नतीजा विक्रम जोशी की गोली मारकर ह्त्या कर दी गई, अगर पुलिस ने समय से कार्यवाही की होती तो शायद विक्रम जोशी आज जिन्दा होते।

पत्रकार विक्रम जोशी के भांजे ने घटना की जानकारी देते हुए बताया कि सारा मामला हमारी बहन के ऊपर है। कमल-उद-दीन के बेटे सहित कुछ लड़के मेरी बहन को बहुत कमेंट करते थे। जिस दिन घटना घटी उस दिन मेरी बहन का जन्मदिन था। मेरे मामा उसे लेकर घर आ रहे थे, कमल-उद-दीन के बेटे ने मेरे मामा के सिर पर रॉड मारी और फिर गोली मारी। हम इंसाफ चाहते हैं।

गाजियाबाद पुलिस ने इस मामलें में अबतक 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है वहीँ 6 आरोपी हिरासत में हैं, प्रताप विहार चौकी इंचार्ज राघवेंद्र पर लापरवाही बरतने एसएसपी कलानिधि नैथानी ने चौकी इंचार्ज राघवेंद्र को सस्पेंड कर दिया है।