लखनऊ नम्बर की गाड़ी से श्री महाकाल मंदिर पहुंचा था विकास दूबे, जानें कौन है इस गाड़ी का मालिक

यूपी पुलिस के आठ पुलिसकर्मियों का हत्यारोपी कुख्यात हिस्ट्रीशीटर विकास दूबे को आख़िरकार 6 दिनों बाद मध्यप्रदेश की उज्जैन पुलिस ने महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया, मंदिर के सुरक्षा गार्ड ने इस अपराधी को देखते ही धर दबोचा उसके बाद पुलिस को सूचना दी. लोगों के मन में एक सवाल उठ रहा था कि आखिर विकास दुबे महाकाल मंदिर तक कैसे पहुंचा, क्या ऑटो-रिक्शा-टैक्सी का सहारा लिया या उसके किसी दोस्त ने उसको निजी वाहन में पहुंचाया। जी हाँ! इसका भी खुलासा हो गया है।

मिली जानकारी के मुताबिक, 8 पुलिसकर्मियों का हत्यारा विकास दुबे एक कार के जरिये उज्जैन महाकाल मंदिर पहुंचा। कार लखनऊ के नंबर पर पंजीकृत है। इस कार पर हाई कोर्ट लिखा है और यह कार किसी मनोज यादव के नाम पर रजिस्टर्ड है।

विकास दुबे को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने एक कार भी बरामद की है। यह कार विटारा ब्रीजा है। इस पर UP32 KS1104 नंबर लिखा है। यह नंबर लखनऊ में मनोज यादव के नाम पर पंजीकृत है। कार पर हाई कोर्ट लिखा है और कार के पीछे शीशे पर वकील के पेशे वाला निशान बना है। जानकारी के अनुसार, पुलिस मनोज को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

बता दें कि कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के विकरू गांव में दबिश देने पहुंची पुलिस टीम पर बदमाशों ने फायरिंग कर दी था इसमें। सीओ बिल्हौर सहित 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए हैं। एसओ बिठूर समेत 6 पुलिसकर्मी गम्भीर घायल हैं। इस गोलीकांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे को आज उज्जैन पुलिस ने महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया।

Sponsored Articles
loading...