गोंडा से किडनैप बच्चा सकुशल माँ-बाप के पास, 5 बदमाश गिरफ्तार, जानिये यूपी STF ने कैसे किया ये सब

गोंडा, 25 जुलाई: कल यानि शुक्रवार को कुछ बदमाश गोंडा से एक 6 वर्षीय बच्चे का अपहरण कर लिए थे, बच्चा वापस करनें की ऐवज में बदमाशों ने 4 करोड़ रूपये की फिरौती मांगी। बच्चा राजेश बीड़ी के मालिक का पौत्र था, बच्चे को सकुशल लानें की जिम्मेदारी यूपी एसटीएफ को सौंपी गई, एसटीएफ के सामनें बच्चे को सही सलामत उसके माँ-बाप तक पहुंचानें की बड़ी चुनौती है, क्योंकि बदमाश बच्चे के साथ कुछ भी कर सकते थे।

यूपी एसटीएफ ने बहुत ही सूझबूझ के साथ ऑपरेशन को अंजाम दिया और सफल हुए, बदमाशों के चंगुल से छुड़ाकर बच्चे को उसके माँ-बाप को सौंप दिया और 5 अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया जिसमें एक महिला भी शामिल थी, यूपी एसटीएफ की इस बहादुरी के बाद लोग सोंच रहे हैं कि आखिर एसटीएफ ने ये सब कैसे किया।

दरअसल इस किडनैपिंग केस में पांच आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं। सूरज पांडे, सूरज का भाई राज, उमेश यादव, दीपू कश्यप और एक महिला छवि पाण्डेय भी गिरफ्तार की गई है।

छवि पाण्डेय सूरज पाण्डेय की पत्नी है, छवि भी इस किडनैपिंग केस में शामिल थी, उसने ही बच्चे के कारोबारी पिता को फिरौती के लिए फोन किया था। उसने फोन करके चार करोड़ रुपये की फिरौती मांगी थी। वह इस ऑडियो में धमकी देती हुई सुनाई दे रही थी कि पुलिस किसी की नहीं होती। उसने कानपुर के विकास दुबे का नाम भी लिया और कहा कि केस पता है न कि पुलिस किसी की नहीं होती।

महिला किडनैपर्स द्वारा फिरौती के लिए जब कारोबारी को फोन आया तो उन्होंने इस कॉल को अपने मोबाइल पर रिकॉर्ड कर लिया और रिकॉर्डिंग पुलिस को दी। पुलिस ने जब इसे सुना तो उन्हें यह स्पष्ट हो गया कि किडनैपर्स कोई प्रफेशनल नहीं हैं। छवि फोन पर कारोबारी से आप-आप करके और लहजे में बात कर रही थी। बातचीत में वह अटक भी रही थी। इसके बाद एसटीएफ ने कॉल रिकॉर्डिंग और लोकेशन ट्रैस करते हुए शनिवार सुबह 7 बजे अपहरणकर्ताओं के पास पहुँच गई. अगर मंझे हुए किडनैपर्स होते तो थोड़ी मुश्किलें खड़ी हो सकती थी. इस ऑपरेशन ो यूपी एसटीएफ ने महज 15 घंटे में अंजाम दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शुक्रवार को गोंडा के कर्नलगंज थाना क्षेत्र निवासी राजेश बीड़ी के मालिक के घर के बाहर से उनके 6 साल के पौत्र को तीन बदमाश दिन दहाड़े उठा ले गए थे, बदमाश मॉस्क और सेनेटाइजर बेंचने के बहाने आये और उच्चे को उठा ले गए थे लेकिन अब यूपी एसटीएफ ने बच्चे को सकुशल उसके माँ-बाप से मिलवा दिया है।