मोदी सरकार ने दी चीन को एक और चोट, हाइवे प्रोजेक्ट्स में भी चीनी कंपनियों पर लगेगा बैन

नई दिल्ली, 1 जुलाई: सोमवार ( 15 जून 2020 ) रात को भारत और चीन सेना के बीच लद्दाख के गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद केंद्र की मोदी सरकार ने चीन के खिलाफ आर्थिक कार्यवाही करनी शुरू कर दी है। केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने कहा कि हाइवे प्रोजेक्ट्स में चीनी कंपनियों पर बैन लगेगा।

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग और मंत्री नितिन गडकरी ने ऐलान किया कि अब भारत सभी हाइवे प्रोजेक्ट्स में चीनी कंपनियों को बैन करने की तैयारी में है. गडकरी ने कहा कि सरकार यह भी तय करेगी कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSMEs) के विभिन्न क्षेत्रों में चीनी निवेशकों को बाहर रखा जाए।

बता दें कि इससे पहले भारतीय रेलवे ने रेलवे उपक्रम डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कारपोरेशन लिमिटेड ने चीनी फर्म बीजिंग नेशनल रेलवे रिसर्च एंड डिज़ाइन इंस्टीट्यूट ऑफ सिग्नल एंड कम्युनिकेशन कंपनी लिमिटेड के साथ चल रहे कॉन्ट्रैक्ट को रद्द कर दिया है. ये कॉन्ट्रैक्ट 471 करोड़ था। इसके अलावा चीन से उपजे तनाव के बाद मोदी सरकार ने BSNL और MTNL में किसी भी चीनी उपकरण के प्रयोग पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है, अब पुराने टेंडर रद्द होंगे, नए सरकारी टेंडर निकाले जाएंगे ताकि चीन हिस्सा ना ले सके। इसके अलावा कई राज्य की सरकारों ने भी चीनी कंपनियों के साथ सभी करार रद्द कर दिए हैं।

ज्ञात हो की सोमवार ( 15 जून 2020 ) रात को गलवान घाटी में चीन और भारतीय सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी। भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए, वहीँ चीन के भी 43 सैनिक मारे गए हैं। लेकिन चीन आंकड़ा नहीं बता रहा है। चीनी सेना ने गलवान घाटी में बातचीत करने गई भारतीय सेना की टुकड़ी पर अचानक लाठी-डंडों, पत्थरों और नुकीले हथियारों से हमला बोल दिया। भारतीय सेना ने भी ऑन द स्पॉट बदला लेते हुए चीन के 43 सैनिकों को मौके पर ही ढ़ेर कर दिया।

Sponsored Articles
loading...