कोरोना की दवा कहकर पिलाता था शराब, पॉर्न दिखाकर करता था दुष्कर्म, ढोंगी बाबा हुआ गिरफ्तार

मुजफ्फरनगर, 12 जुलाई: देशभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है, मौके का फायदा उठाकर कुछ ढोंगी बाबा गन्दी हरकतें कर रहे हैं, जी हाँ! कोरोना की दवा के नाम पर शराब पिला रहे हैं और पॉर्न वीडियो दिखाकर दुष्कर्म कर रहे हैं, ताजा मामला मुजफ्फरनगर से आया है। जहाँ एक ढ़ोंगी बाबा इन सब गंदी हरकतों को अंजाम देता था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुजफ्फरनगर के शुक्रताल के एक आश्रम में रोजाना मासूमों को आश्रम का मैनेजर कोरोना की दवाई’ कहकर शराब पीने को मजबूर करता था, पॉर्न दिखाता था और उनका यौनशोषण करता था। मना करनें पर  बेरहमी से पिटाई की जाती थी। ये बच्चे सालों से आश्रम में रहते हैं।

नवभारत टाइम्स के मुताबिक, आश्रम में रहने वाले मिजोरम के एक 10 साल के बच्चे ने चाइल्ड वेलफेयर कमिटी को दिए अपने बयान में बताया, महाराज हमें कोरोना की दवा पिलाते थे। उसके बाद वह नंगे होकर लेट जाते थे और हमें गंदी फिल्में दिखाते थे और हमारे साथ गंदी चीजें करते थे।

वह मासूम उन 10 बच्चों में शामिल हैं, जिन्हें इस हफ्ते की शुरुआत में आश्रम से बचाया गया था। दरअसल, एक विसलब्लोअर को यौनशोषण पर आपत्ति जाहिर करने को लेकर आश्रम से निकाल दिया गया था और बाद में उसने आश्रम के काले कारनामें का खुलासा किया था। बच्चे त्रिपुरा और मिजोरम के हैं। इनमें से 9 की उम्र 7 से 16 साल के बीच है जबकि एक की उम्र 18 साल है। मेडिकल जांच में इनमें से 4 के साथ यौन उत्पीड़न की पुष्टि हुई है।

बच्चे जिसे महाराज बता रहे हैं, वह कथित संत बाबा भक्ति भूषण गोविंद महाराज है जो अपने साथी मोहन दास के साथ मिलकर आश्रम चलाता है। दोनों को POCSO ऐक्ट और दुष्कर्म के लिए आईपीसी की धारा के तहत गिरफ्तार कर लिया गया है। आश्रम जुवेनाइल जस्टिस ऐक्ट के तहत रजिस्टर्ड भी नहीं है। पुलिस पूरे मामलें में जांच कर रही है।

Sponsored Articles
loading...