प्रशांत भूषण ने उड़ाया राम मंदिर का मजाक, ढूढ़ निकाला कोरोना एंगल

अयोध्या, 30 जुलाई: अब वो घडी दूर नहीं जब अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा, जी हाँ! 5 अगस्त को अयोध्या में राममंदिर का भूमिपूजन होगा। लेकिन उससे पहले सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण ने राम मंदिर मंदिर का मजाक उड़ाया है।

सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण ने अयोध्या में राम मंदिर के लिए ‘भूमि पूजन’ समारोह का मजाक उड़ाते हुए एक अप्रिय ट्वीट किया। एक कार्टून के साथ, भूषण ने लिखा, ताली, थाली, मोमबत्ती, पापड़ के बाद, अब हमें COVID से ठीक करने के लिए अयोध्या मंदिर की बारी है!

भूषण का ट्वीट ऐसे समय में आया है जब एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के मंगलवार कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर के प्रधान मंत्री के रूप में शिलान्यास समारोह में शामिल नहीं होना चाहिए।

AIMIM के अध्यक्ष और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने पीएम मोदी के अयोध्या दौरे पर सवाल उठाते हुए ट्वीट कर कहा था ‘पीएमओ द्वारा भूमि पूजन में शामिल होना संवैधानिक शपथ का उल्लंघन होगा। धर्मनिरपेक्षता संविधान की मूल संरचना का हिस्सा है। हम यह नहीं भूल सकते कि बाबरी 400 साल से अधिक समय तक अयोध्या में रही और 1992 में आपराधिक भीड़ द्वारा इसे ध्वस्त कर दिया गया। ओवैसी के इस बयान के बाद बवाल मच गया है।

ज्ञात हो कि अयोध्या में 5 अगस्त को राम मंदिर भूमिपूजन का कार्यक्रम होगा और इसका लाइव प्रसारण दूरदर्शन करेगा। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत देश की 200 मानी-जानी हस्तियां शामिल होंगीं, पीएम मोदी राम मंदिर की पहली ईंट रखेंगें।

loading...