लद्दाख: सरहद पर दहाड़ रहे हैं पीएम मोदी,..बँकर में छुपकर बैठा है जिनपिंग

लद्दाख, 3 जुलाई: चीन के साथ लाइन ऑफ़ एक्चुअल कण्ट्रोल ( LAC ) पर चल रही तनातनी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अचानक लेह-लद्दाख के दौरे पर पहुँच गए हैं। पहले से मौजूद चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टॉफ ( सीडीएस ) जनरल विपिन रावत ने एयरपोर्ट पर पीएम मोदी की अगवानी की।

पीएम मोदी के इस दौरे की पहले से किसी को भनक तक नहीं लगी, तस्वीरें मीडिया में आनें के बाद मीडिया के जरिये देश को पता चला कि पीएम मोदी लद्दाख पहुँच गए हैं। चीन से उपजे ताजा हालात को लेकर पीएम मोदी का ये दौरा काफी अहम् माना जा रहा है।

एक तरफ पीएम मोदी भारतीय सेना के जवानों का हौंसला बढ़ाने लद्दाख पहुँच गए, सरहद पर दहाड़ रहे हैं वहीँ दूसरी ओर चीनी राष्ट्रपति सी जिनपिंग बंकर में छुपकर बैठा है, गलवान घाटी में मारे गए चीनी सैनिकों की संख्या को भी चीन ने नहीं जारी किया। यही है दोनों देशों के बीच सबसे बड़ा अंतर।

बता दें कि लेह पहुंचने के बाद पीएम मोदी ने नीमू पोस्ट पर सेना के अधिकारियों के साथ बातचीत की, बता दें कि नीमू पोस्ट समुद्री तल से 11 हजार फीट की ऊंचाई पर मौजूद है, जिसे दुनिया की सबसे ऊंची और खतरनाक पोस्ट में से एक माना जाता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, अपने इस दौरे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 कॉर्प्स के अधिकारियों से बात की। इसके अलावा CDS बिपिन रावत के साथ मिलकर मौजूदा स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान नॉर्दन आर्मी कमांड के लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी, लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह भी मौजूद रहे। साथ ही तीनों सेना के अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

पीएम मोदी के इस दौरे से न सिर्फ सेना के जवानों का हौंसला बढ़ेगा बल्कि एक नया उत्साह भी आएगा। साथ ही चीन को भी एक साफ़ और कड़ा सन्देश दे दिया गया। गलवान घाटी में मातृभूमि की रक्षा करते हुए घायल हुए सेना के जवानों से भी मुलाकात करेंगें। बता दें कि सभी घायल जवान लेह में सेना के अस्पताल में भर्ती हैं।

चीन भी पीएम मोदी के इस दौरे पर बारीकी से नजर बनाये होगा। चीन को अंदाजा भी न रहा होगा कि पीएम मोदी लेह पहुँच जायेंगें। भारत और चीन में यही अंतर् है कि चीन अपने मृत सैनिकों का आंकड़ा भी नहीं जारी करता जबकि पीएम मोदी भारतीय सेना के जवानों से मिलनें सीधा लेह पहुँच गए।

Sponsored Articles
loading...