पालघर साधु हत्याकांड: CID की चार्जशीट पर उठे सवाल, भाजपा ने की सीबीआई जांच की मांग

पालघर, 16 जुलाई: बीते अप्रैल महीनें में महाराष्ट के पालघर में दो संतों की पीट-पीटकर ह्त्या कर दी गई थी, इस पूरे मामलें की जांच सीआईडी को सौंपी गई थी, सीआईडी ने अपनी चार्जशीट दाखिल कर दी गई है, सीआईडी ने संतों की ह्त्या कारण वही बताया जो उद्धव सरकार पहले से ही बताती आ रही है।

सीआईडी ने 126 लोगों के खिलाफ पहली चार्जशीट 4995 पन्नों की जबकि 5921 पन्नों की दूसरी चार्जशीट दहाणु कोर्ट में दाखिल की. CID ने अफवाह को घटना की मुख्य वजह माना है। मामले में अब तक 165 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. साधुओं की हत्या के मामले में 808 संदिग्धों से पूछताछ हुई।

सीआईडी ने अपनी जांच में माना कि पालघर साधु हत्याकांड के पीछे कोई सांप्रदायिक कारण नहीं था बल्कि कुछ अफवाहों को ही दिल दहला देने वाले इस हत्याकांड की मुख्य वजह बताया।

सीआईडी ने जो चार्जशीट दाखिल की हैं उसके मुताबिक, इस इलाके में कुछ दिनों से ऐसी अफवाह थी कि “कुछ लोग बच्चों को किडनैप कर उनके शरीर से किडनी जैसे अंग निकलने के लिए साधु, पुलिस या डॉक्टर के भेष में आ सकते हैं. इसी अफवाह के चलते स्थानीय लोगों ने इन संतों को किडनैपर समझकर साधुओं पर जानलेवा हमला किया।

सीआईडी की इस चार्जशीट पर सवाल उठनें लगे हैं, भाजपा ने सीआईडी की जांच को खारिज करते हुए सीबीआई जांच की मांग की है, भाजपा नेता राम कदम ने कहा है कि सीआईडी ने अपनी चार्जशीट में ह्त्या का कारण अफवाह बताया है, महाराष्ट्र सरकार भी शुरू से ही यही बताते आई है, दूध का दूध पानी का पानी करनें के लिए सीबीआई जांच जरुरी है।

मालूम हो कि पालघर के गढ़चिंचिले गाँव में बीते 16 अप्रैल को पुलिस के सामने उन्मादी भीड़ ने पीट-पीटकर दो संतों को मौत के घाट उतार दिया। मौके पर मौजूद पुलिस ने भी संतों को बचानें का कोई प्रयास नहीं किया बल्कि संतों को भीड़ के सामने धकेल दिया था।

Sponsored Articles
loading...