कांग्रेस पर बरसीं मायावती, कहा- गहलोत ने किया है गैरकानूनी काम, राजस्थान में लगे राष्ट्रपति शासन

नई दिल्ली, 18 जुलाई: राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच अब गहलोत सरकार द्वारा जारी किये गए ऑडियो टेप काण्ड के बाद अब सियासत तेज हो गई है, भाजपा के बाद बसपा सुप्रीमों मायावती ने कांग्रेस पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि राजस्थन के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने फोन टेप कराके गैर-कानूनी व असंवैधानिक काम किया है, यही नहीं मायावती ने राजस्थान में राष्ट्रपति शासन लगानें तक की मांग कर डाली हैं।

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमों मायावती ने अपनें ट्वीट में लिखा, जैसाकि विदित है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पहले दल-बदल कानून का खुला उल्लंघन व बीएसपी के साथ लगातार दूसरी बार दगाबाजी करके पार्टी के विधायकों को कांग्रेस में शामिल कराया और अब जग-जाहिर तौर पर फोन टेप कराके इन्होंने एक और गैर-कानूनी व असंवैधानिक काम किया है।

बसपा प्रमुख ने अगले ट्वीट में लिखा, इस प्रकार, राजस्थान में लगातार जारी राजनीतिक गतिरोध, आपसी उठा-पठक व सरकारी अस्थिरता के हालात का वहाँ के राज्यपाल को प्रभावी संज्ञान लेकर वहाँ राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश करनी चाहिए, ताकि राज्य में लोकतंत्र की और ज्यादा दुर्दशा न हो।

क्या है ऑडियो टेप काण्ड
दरअसल दो दिन पहले राजस्थान की गहलोत सरकार ने एक ऑडियो टेप वायरल किया था, जिसमें गहलोत सरकार को कथित तौर पर गिराने की साजिश का खुलासा हुआ है। वायरल ऑडियो के साथ कांग्रेस ने दावा किया था कि केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता गजेंद्र सिंह शेखावत जयपुर के संजय जैन के जरिए कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा के संपर्क में हैं। कांग्रेस सरकार का दावा है कि भंवरलाल शर्मा ने 30 विधायकों की संख्या पूरी करने का आश्वासन दिया है। इन वायरल ऑडियो में पैसों के लेन-देन की बात भी कही जा रही है।

कथित ऑडियो टेप वायरल होनें के बाद कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा ने इसे उनके खिलाफ साजिश बताया है, वहीं केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने भी सफाई दी है। भाजपा नेता और केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि गहलोत सरकार ने जो कथित ऑडियो वायरल किया है उस ऑडियो में मेरी आवाज नहीं है, शेखावत ने दावा किया कि मैं मारवाड़ी भाषा का उपयोग करता हूँ जबकि ऑडियो में बीकानेर में बोली जाने वाली भाषा इस्तेमाल की गई है। इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राजस्थान की SOG को जो जांच करना हो कर ले..पूछताछ के लिए मैं तैयार हूँ।