विकास दुबे का घर टूटनें के बाद लोगों ने पूछा- कब चलेगा मौलाना साद और ताहिर हुसैन के घर पर बुल्डोजर

कानपुर, 6 जुलाई: गुरूवार ( 2 जुलाई 2020 ) देर रात कानपुर के बिकरू गाँव में कुख्यात हिस्ट्रीशटर विकास दुबे और उसके साथी बदमाशों ने रेड मारनें गई पुलिस टीम पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर यूपी पुलिस के आठ जवानों को मौत के घाट उतारकर फरार हो गया। इस घटना के बाद पूरा देश हिल गया, विकास दुबे की तलाश में पुलिस जगह-जगह दबिश दे रही है, 70 घंटे से ज्यादा बीत जानें के बावजूद अभी तक अपराधी विकास का कोई पता-जता नहीं नहीं।

हालाँकि यूपी पुलिस ने कड़ी कार्यवाही करते हुए 60 मुकदमें वाले राक्षस कुख्यात हिस्ट्रीशटर विकास दुबे के घर को खंडहर बना दिया, जेसीबी चलवाकर पूरे घर को तोड़वा दिया, पुलिस के इस एक्शन की जमकर तारीफ भी हो रही है तो वहीँ अब मौलाना साद और ताहिर हुसैन के घर को भी तोड़नें की मांग की जा रही है दिल्ली पुलिस से। सोशल मीडिया पर लोग कह रहे हैं अपराधी विकास दुबे का घर तोड़ दिया गया, बहुत अच्छा किया गया अपराधियों के साथ ऐसा होना भी चाहिए लेकिन मौलाना साद और ताहिर हुसैन भी अपराधी हैं उनके घर पर बुलडोजर कब चलेगा।

सपन पांडेय नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा, जिस प्रकार योगी जी ने कुख्यात अपराधी विकास दुबे के घर पर बुल्डोज़र चलवा दिया ताकि जवानों के बलिदान का बदला लिया जा सके, नमन है योगी जी के कार्यशैली को क्या दिल्ली पुलिस भी आईबी ऑफिसर अंकित शर्मा का हत्यारा और दिल्ली दंगा का मास्टरमाइंड ताहिर हुसैन के साथ ऐसा नहीं कर सकती।

समीर विश्नोई नाम के ट्विट्टर यूजर ने लिखा, ताहिर हुसैन, मौलाना साद, मुख्तार अंसारी, शहाबुद्दीन, अतीक उर रहमान, अतीक अहमद जैसे अपराधियों के एनकाउंटर और उनके घर तोड़ने का समय आ गया, ऐसे सभी लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

अरुण वाजपेयी नाम के ट्विट्टर यूजर ने लिखा, विकास दुबे का घर तोड़ना कोई बड़ी बात नही, बहुत अच्छी बात है, हर अपराधी के साथ यही सलूक होना चाहिए..पर..मौलाना साद का घर कब टूटेगा?? अंसारी का घर कब टूटेगा??
ये दोहरा मापदंड क्यों??दरिंदों के साथ धर्म देखकर रियायत कब तक?? ये मैं नहीं .. पूछता है भारत?

बता दें कि मौलाना साद निजामुद्दीन मरकज मामले का मुख्य आरोपी है, साद इस समय फरार चल रहा है कई गंभीर धाराओं में इसपर मुकदमा भी दर्ज है। दिल्ली पुलिस ने अपनीं चार्जशीट में आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन को दिल्ली दंगों का मास्टरमाइंड बताया है, करीब एक हजार पन्नों की चार्जशीट में ताहिर हुसैन और उसके भाई शाह आलम सहित 15 लोगों को आरोपी बनाया गया है, दिल्ली पुलिस के मुताबिक़, दिल्ली में दंगे करानें के लिए ताहिर हुसैन ने 1 करोड़ 30 लाख रूपये खर्च किये थे। इसके अलावा ताहिर हुसैन पर आईबी अफसर अंकित शर्मा की ह्त्या करनें का आरोप है, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि अंकित के शरीर पर 400 चाक़ू गोदे गए थे।

Sponsored Articles
loading...