लालू यादव पर मेहरबान हुई झामुमो-कांग्रेस सरकार, अब ऐशो-आराम की जिंदगी जी सकेंगें लालू

भ्रस्टाचार के आरोप में जेल की हवा खा रहे राष्ट्रीय जनता दल ( आरजेडी ) मुखिया लालू प्रसाद यादव को झारखण्ड की झामुमो-कांग्रेस गठबंधित सरकार बड़ी राहत देनें जा रही है, जहाँ लालू यादव ऐशो-आराम की जिंदगी व्यतीत कर सकेंगें। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोरोना से बचानें के लिए लालू यादव को रिम्स के पेइंग वार्ड से हटाकर रिम्स के निदेशक के बंगले पर शिफ्ट किया जा रहा है।

राँची में यूँ तो लालू यादव कहने के लिए बिरसा मुंडा कारागार में कैद हैं लेकिन पिछले कई महीनों से बीमारी के कारण वो RIMS में ही डेरा डाले हुए हैं। और अब जेल में प्रवेश करनें के बजाय सीधा आलिशान बंगले में इंट्री करेंगें, ये सब झारखंड की झामुमो-कांग्रेस सरकार की बदौलत सुनिश्चित हो पा रहा है।

आपको बता दें कि कई बीमारियों का इलाज करा रहे सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती हैं. इनकी सेवा में सेवादार भी रहते हैं, लेकिन उनके सेवादार ही कोरोना पॉजिटिव निकल गये हैं। जिसके बाद रिम्स प्रशासन ने लालू प्रसाद यादव का टेस्ट कराया था, लेकिन उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी।

जेल प्रशासन की अनुमति के बाब लालू यादव के लिए दो नये सेवादार नियुक्त कर दिए गए. इसके बाद से उन्हें रिम्स से हटाकर कहीं अन्यत्र शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही थी।

लालू प्रसाद यादव को निदेशक के बंगले पर शिफ्ट करने से पहले रांची के सिटी एसपी ने बंगले का निरीक्षण कर सुरक्षा का जायजा लिया. सुरक्षा के एक एक बिंदु पर सरकार की नजर हैं. इसके बाद लालू प्रसाद यादव के शिफ्ट करने को लेकर जिला प्रशासन और रिम्स प्रशासन जुटा हुआ हैं। बंगले की साफ सफाई तेजी से की जा रही है. यहां पर ध्यान दिया जा रहा है कि लालू प्रसाद यादव को कोई परेशानी नहीं हो। मतलब लालू यादव भले सजायाफ्ता हैं लेकिन उन्हें कोई परेशानी न हो इसका विशेष ख्याल रखा जा रहा है।यही होता है एक वीआईपी और आम आदमी होनें का फर्क।

Sponsored Articles
loading...