कर्नाटक: BJP सरकार ने टीपू सुल्तान, हैदर अली को 7वीं के चैप्टर से किया बाहर, नाराज हुई कांग्रेस

बेंगलुरु, 29 जुलाई: बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली कर्नाटक की भाजपा सरकार ने टीपू सुल्तान और उसके पिता हैदर अली पर आधारित चैप्टर को कक्षा सातवीं के समाज विज्ञान की पाठ्यपुस्तक से हटा दिया गया है. कोविड-19 महामारी के कारण 2020-21 के पाठ्यक्रम को घटाने के कर्नाटक सरकार के निर्णय के बाद यह कदम उठाया गया.हालाँकि, कक्षा 6 और 10 में पढ़ाया जाने वाला ‘टाइगर ऑफ मैसूर’ चैप्टर फिलहाल बना रहेगा।

कर्नाटक टेक्स्ट बुक सोसाइटी के डायरेक्टर मद्दे गौड़ा ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण स्कूलों के खुलने में देरी हो रही है और इसीलिए छात्रों का सिलेब्स 30% कम किया जा रहा है ताकि उन पर से बोझ कम हो। उन्होंने बताया कि इसी क्रम में कक्षा 7 में पढ़ाए जाने वाले टीपू सुल्तान वाले चैप्टर को निकाल बाहर किया गया है। टीपू सुल्तान का चैप्टर हटाने से छात्रों को कोई हानि नहीं होगी।

टीपू सुलतान का चैप्टर हटाए जानें के बाद कॉन्ग्रेस नाराज हो गई और इसका विरोध किया है। कॉन्ग्रेस का कहना है कि भाजपा सांप्रदायिक राजनीति खेल रही है और इसी क्रम में उसने टीपू सुल्तान पर आधारित चैप्टर को बच्चों के सिलेब्स से हटा दिया है।

कर्नाटक की विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने कहा कि भाजपा अब शिक्षा में सांप्रदायिकता घुसा रही है। हालाँकि, लेखक बंगारु रामचन्द्रप्पा की अध्यक्षता में गठित विशेषज्ञों की कमिटी ने नवंबर 2019 में ही कर्नाटक सरकार को टीपू सुल्तान को सिलेब्स से हटाने की सलाह दी थी। जिसे अब अमल में लाया गया और हटा दिया गया।

loading...