कारगिल विजय दिवस: भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तान के मंसूबों को नेस्ताबूत कर फहरा दिया था पहाड़ी पर तिरंगा

नई दिल्ली, 26 जुलाई: देशभर में आज 21वां कारगिल विजय दिवस मनाया जा रहा है, आज ही के दिन यानि 26 जुलाई 1999 के दिन भारतीय सेना ने पाकिस्तानियों के मंसूबों को नेस्ताबूत करके पहाड़ी पर तिरंगा फहरा दिया था, कारगिल युद्ध के दौरान चलाए गए ‘ऑपरेशन विजय’ को सफलतापूर्वक अंजाम देकर भारतीय सेना ने भारत भूमि को पाकिस्तानी घुसपैठियों के चंगुल से मुक्त कराया था। भारतीय सेना ने पाकिस्तान को चौथी बार घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था।

साल 1998-99 की सर्दियों में पाकिस्तानी सेना आतंकवादियों की मिलीभगत से नियंत्रण रेखा (LOC) पार कर कारगिल क्षेत्र में भारतीय सीमा में घुस आई थी। कारगिल पहाड़ियों पर उन्होंने सर्दी के दिनों में ही कब्जा जमा लिया था और घुसपैठ को “ऑपरेशन बद्र” नाम दिया था।

वर्ष 1999 की गर्मियों की शुरुआत में जब सेना को पता चला तो उसने पाकिस्तान के खिलाफ “ऑपरेशन विजय” चलाया। करीब 18 हजार फीट की ऊंचाई पर कारगिल में लड़ी गई इस जंग में 527 भारतीय जवान शहीद हुए, जबकि 1363 घायल हुए। यह सैन्‍य ऑपरेशन आठ मई को शुरू हुआ और 26 जुलाई को खत्म हुआ था। जिसमें भारतीय सेना ने विजय प्राप्त की थी, पाकिस्तान धूल चाटकर रह गया था।

11 मई से इस युद्ध में भारतीय वायुसेना भी शामिल हो गई थी, वायुसेना के लड़ाकू विमान मिराज, मिग-21, मिग 27 और हेलीकॉप्टर ने पाकिस्तानी घुसपैठियों की कमर तोड़कर रख दी थी। कारगिल युद्ध में पाकिस्तान के भी 500 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी, हजारों घायल हुए थे। कारगिल युद्ध में वीरता दिखानें के लिए 4 सैनिकों को परमवीर चक्र, भारतीय सेना के 8 जवानों और अफसरों को महावीर चक्र और 51 सैनिकों को वीर चक्र दिया गया था।