कानपुर शूटआउट: कुख्यात बदमाश विकास दुबे के ये 5 ख़ास आदमी हैं STF की रडार पर

कानपुर, 4 जुलाई: गुरूवार ( 2 जुलाई 2020 ) देर रात कानपुर के बिकरू गाँव में हुई आठ पुलिसवालों की ह्त्या के मामलें में यूपी पुलिस ने अब कार्यवाही तेज कर दी है, पुलिस पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर यूपी पुलिस के आठ जवानों को मौत के घाट उतारनें वाला कुख्यात बदमाश विकास दुबे फरार है लेकिन कथित तौर पर बदमाशों को पुलिस के मूवमेंट की जानकारी देनें के आरोप में यूपी एसटीएफ ने चौबपुर थानाध्यक्ष को हिरासत में ले लिया है। साथ ही विकास दुबे के 5 ख़ास आदमी स्पेशल टॉस्क फ़ोर्स ( एसटीएफ ) की रडार पर हैं।

आठ बहादुर पुलिसकर्मियों का हत्यारा कुख्यात अपराधी विकास दुबे अभी भी फरार है, कानपुर के चौबेपुर में अपने गांव बिकरु में करीब चार घंटे की घटना को अंजाम देने के बाद से फरार विकास दुबे की तलाश में राज्य की सौ पुलिस टीमें लगी हैं। इनमें एसटीएफ की भी आठ टीमें हैं। विकास दुबे को फरार हुए 36 घंटे से ज्यादा हो चुका है अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, विकास के साथ-साथ उसके 5 आदमी एसटीएफ की रडार हैं, ये पाँचों वो हैं जो हमेशा विकास के साथ रहते थे, जिसे दाहिना अंग भी कहा जा सकता है, जी हाँ। विकास दुबे के पाँचों साथियों का नाम हीरू, गोपाल सैनी, अमर दुबे, गुड्डू शुक्ला और बड्डे दुबे है।

बताया जाता है कि हीरु विकास का बहुत ख़ास आदमी था, विकास का वित्तीय काम यही देखता था, कहाँ किससे कब पैसा लाना है, कहाँ कितना पैसा पहुंचाना है। यह सब हीरु के जिम्मे रहता है। गोपाल सैनी विकास की जमीनों का काम देखता है, यही विकास का मुख्य धंधा है। किसी भी विवादित जमीन को कब्जा करना या फिर किसी शरीफ आदमी की जमीन पर कब्जा कर उसे छोड़ने की एवज में वसूली करने जैसे काम सब इसी के जिम्मे है।

हमेशा असलहों से लैस रहने वाला अमर दुबे विकास का पर्सनल बॉडी गार्ड है, यह विकास पर आने वाली किसी भी विपत्ति को सबसे पहले खुद पर झेल लेता है। गुड्डू शुक्ला विकास का ख़ास आदमी था हमेशा साथ रहता था, गांव में किसी को क्या जरूरत है, गैंग में नया कौन पुराना कौन। किससे क्या काम लेना है। यह सब जिम्मेदारी गुड्डू की है। बड्डे दुबे विकास के खाने पीने हर छोटी बड़ी जरुरतों की देख-रेख रखता है। बताया जाता है पाँचों में सबसे ज्यादा विकास का विश्वासपात्र बड्डे ही था।

Sponsored Articles
loading...