चारों तरफ से बदमाशों ने बरसाई गोलियाँ, घायल SO कौशलेंद्र ने बताई कानपुर काण्ड की पूरी कहानी

कानपुर, 5 जुलाई: गुरुवार और शुक्रवार की दरम्यानी रात को कानपुर के बिकरू गाँव में दबिश देनें गई पुलिस पर कुख्यात बदमाश विकास दुबे और उसके साथियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की, इस गोलीकांड में यूपी पुलिस के आठ जवान शहीद हो गए हैं, इस घटना से जुड़े कई अलग-अलग तथ्य निकलकर सामनें आये। 50 घंटे से ज्यादा बीत चुके हैं लेकिन विकास दुबे अभी पुलिस की पकड़ से बाहर है।


बिकरू गाँव में गुरुवार और शुक्रवार की दरम्यानी रात को जो खूनी तांडव हुआ उसकी पूरी कहानी बयाँ की है बिठूर के एसओ कौशलेन्द्र प्रताप ने, कौशलेन्द्र इस गोलीकांड में घायल हो गए थे और उनका ईलाज कानपुर के रीजेंसी अस्पताल में चल रहा है।

बिकरू गाँव में गुरुवार और शुक्रवार की दरम्यानी रात क्या हुआ।
बिठूर के घायल एसओ कौशलेन्द्र प्रताप ने बताया कि घटना से कुछ घंटों पहले फोन पर एसओ चौबेपुर द्वारा सूचना दी गई थी कि एक दबिश में चलना है, सूचना मिलनें के बाद रात साढ़े 12 बजे हम लोग निकल गए थे, तकरीबन 1 बजे बिकरू गाँव पहुंचे। एसओ ने कहा, हम लोग वहां पहुंचकर अपनीं गाड़ियों को तकरीबन 150-200 मीटर पहले पार्क ( खड़ी ) कर दिए थे। पार्क करनें के बाद वहां से पैदल विकास दुबे के घर की तरफ बढे।

बदमाशों ने चारों तरफ से की फायरिंग
कौशलेन्द्र प्रताप ने बताया कि जब हम लोग उसके घर के नजदीक पहुंचे लगे तो आगे रास्ते में एक जेसीबी खड़ी मिली, वहां से हम लोग एक-एक करके जैसे ही उसके घर की तरफ आगे बढ़ने लगे वैसे ही ताबड़तोड़ चारों तरफ से फायरिंग होने लगी। अचानक हुई फायरिंग से हम लोग सम्भल नहीं पाए और खुद को बचानें के लिए जगह-जगह छुपनें लगे।

पहले ही राउंड की फायरिंग में घायल हुए ज्यादा पुलिस के जवान
एसओ कौशलेन्द्र ने आगे बताया कि हम लोग जब अपनें आप को थोड़ा सुरक्षित महसूस किये उसके बाद फायरिंग की लेकिन टारगेट हमें नजर नहीं आ रहा था क्योंकि हम लोग नीचे थे और बदमाश ऊपर थे, पहले राउंड में बदमाशों ने जो फायरिंग की थी उसमें पुलिस के ज्यादा से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। उन्होंने कहा कि हमारे आसपास दो साथी घायल हो गए थे उनको मैनें बाहर निकाला।

नीचे होनें की वजह से पुलिस नहीं देख पा रही थी टारगेट
इसके अलावा कौशलेन्द्र ने बताया कि हम लोग टारगेट को देख नहीं पा रहे थे और टारगेट हमें अच्छे से देख पा रहा था, हम जरा से मूवमेंट करते थे तो तुरंत बदमाश फायरिंग कर देते थे और पुलिसवालों को गोली लग जा रही थी, इसके अलावा उन्होंने कहा की दबिश की सूचना बदमाशों को पहले से लग गई थे, उनकी तैयारियों को देखकर ऐसा ही लगा।

Sponsored Articles
loading...